Lead NewsNationalTOP SLIDER

जानें त्रिपुरा के CM बिप्लब देब को क्यों देना पड़ा इस्तीफा, आज चुना जायेगा नया मुख्यमंत्री

अगले वर्ष 2023 में होने वाला त्रिपुरा में विधानसभा का चुनाव

New Delhi : त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने शनिवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने इस्तीफा राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य को सौंप दिया है. उन्होंने शुक्रवार को गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी, जिसके बाद उन्होंने पद छोड़ दिया. वहीं थोड़ी देर में बीजेपी विधायक दल की बैठक होने वाली, जिसमें नए सीएम को लेकर चर्चा होगी. वहीं केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव विनोद तावड़े को त्रिपुरा में पर्यवेक्षक बनाया गया है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें:BIG NEWS : गिराया जाएगा पटना कलेक्टोरेट का 350 साल पुराना भवन, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हर इमारत संरक्षण लायक नहीं

The Royal’s
Sanjeevani

कहा, पार्टी का फैसला सर्वोपरि

बिप्लब देब मीडिया से कहा कि उनके लिए पार्टी का फैसला सर्वोपरि है. आलाकमान के कहने पर उन्होंने अपना पद छोड़ दिया है. मेरे जैसे कार्यकर्ता को संगठन के लिए काम करने की जरूरत है. हालांकि उन्होंने नया सीएम कौन होगा, इस सवाल पर कोई जवाब नहीं दिया है.

इसे भी पढ़ें:बिहार पुलिस को मिले 60 नए DSP, 65वीं BPSC के आधार पर बिहार पुलिस सेवा की अनुशंसा पर हुई नियुक्ति

बीजेपी को फिर सत्ता में लाना प्राथमिकता

बिप्लब देब ने कहा कि हमारी पहली प्राथमिकता बीजेपी को फिर से सत्ता में लाना है. हमें त्रिपुरा में लंबे समय तक भाजपा को सत्ता में बनाए रखने की जरूरत है. जब तक हमारे पास एक मजबूत संगठन है. हम सरकार में हैं और यह सबसे महत्वपूर्ण है.

इसे भी पढ़ें:1750 करोड़ खर्च कर महात्मा गांधी सेतु नए रूप में तैयार, जून में गडकरी करेंगे उद्घाटन

इसलिए हटाये गये बिप्लब देब

बिप्लब देब को लेकर संगठन में नाराजगी बढ़ रही थी. दो विधायकों ने पार्टी भी छोड़ दी थी. पार्टी के वरिष्ठ नेताओं द्वारा उनके खिलाफ लगातार दिल्ली में शिकायतें की जा रही थीं. वहीं बीजेपी आगामी विधानसभा चुनावों की रणनीति को लेकर कोई रिस्क नहीं लेना चाहती थी.

2018 में बने थे सीएम

बिप्लव देब 2018 में सीएम बने थे. अगले साल त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. अगले साल 2023 में राज्य में चुनाव होने हैं. गुजरात की तर्ज पर त्रिपुरा में मंत्री से लेकर संगठन तक में बड़े फेरबदल हो सकते हैं. ऐसे में माना जा रहा है कि भाजपा ने पार्टी को मजबूत करने के लिए नये चेहरे को राज्य की कमान सौंपने का फैसला लिया है.

इसे भी पढ़ें:BJP ने पंचायत चुनाव में चतरा डीसी के रवैये पर चुनाव आयोग से जतायी नाराजगी, कहा- लें एक्शन

Related Articles

Back to top button