World

जानिये कौन है ऐसा देश जहां एक सप्ताह में तीसरा व्यक्ति बनाया गया राष्ट्रपति

दो दशक के सबसे बड़े संवैधानिक संकट का सामना कर रहा है ये देश

Lima: दुनिया में एक देश ऐसा भी है जहां मची उथल-पुथल की वजह से सिर्फ एक सप्ताह में दो लोगों को राष्ट्रपति पद से हटना पड़ा है. वहीं मध्यममार्गी पार्टी के फ्रांस्सिको सागस्ती को अंतरिम राष्ट्रपति बनाया गया है. नयी व्यवस्था के तहत वे अगले वर्ष जुलाई तक इस पद पर रहेंगे. अब देखना ये है कि वे देश में कानून व्यवस्था बहाल कर पद पर बने रहते हैं या नहीं?

इसे भी पढ़ें:ओबामा ने ए प्रॉमिस्ड लैंड में लिखा, मनमोहन मुंबई हमलों के बाद पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई करने से कतराये…

मजह पांच दिन पहले अंतरिम राष्ट्रपति बनाया गया था मैनुअल मेरिनो को

Catalyst IAS
ram janam hospital

देश में हिंसक घटनाओं के दौरान पांच दिन पहले ही मैनुअल मेरिनो को पेरू का अंतरिम राष्ट्रपति बनाया गया था, लेकिन वे स्थिति को नियंत्रित नहीं कर पाये और उन्होंने अंतत: पद से इस्तीफा दे दिया. दरअसल, दो दशक के सबसे बड़े संवैधानिक संकट का सामना कर रहे देश में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए. इस्तीफे के बाद मेरिनो ने कहा कि मंगलवार को उनका अंतरिम राष्ट्रपति पद की शपथ लेना, कानून के दायरे में था. वहीं प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि संसद में सदस्यों ने तख्तापलट की साजिश रची थी.

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

इसे भी पढ़ें:सांसद पोद्दार बोले, किताबों के लिए टेंडर की प्रथा बंद हो-छात्रों को डीबीटी से मिले पैसा

दो युवा प्रदर्शनकारियों की मौत के बाद मैनुअल मेरिनो दिया इस्तीफा

मैनुअल मेरिनो ने टीवी पर अपने संबोधन में कहा, सभी लोगों की तरह मैं भी देश के लिए सर्वश्रेष्ठ चाहता हूं. मेरिनो ने इस्तीफा देने का फैसला ऐसे समय में लिया जब रात में अशांति के दौरान दो युवा प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई और उनके आधे मंत्रिमंडल ने इस्तीफा दे दिया. पेरू के लोगों ने लीमा में झंडे फहराकर इस फैसले का स्वागत किया और नारे लगाए, ‘हमने यह कर लिया.’ लेकिन अब तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि अशांति के बीच आगे क्या होने वाला है.

वहीं सत्ता से बेदखल होने वाले पूर्व राष्ट्रपति मार्टिन विजकारा ने सुप्रीम कोर्ट से दखल की अपील की है. पेरू में काफी कुछ दांव पर लगा है. देश कोविड-19 महामारी का सामना कर रहा है और यह दुनिया भर के उन देशों में शामिल है जहां इसका प्रकोप बहुत अधिक है. वहीं राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना है कि इस संकट ने देश के लोकतंत्र को खतरे में डाल दिया है.

इसे भी पढ़ें:लोन मोरेटोरियम के दौरान ब्याज पर ब्याज माफी मामले की आज Supreme Court में होगी सुनवाई

Related Articles

Back to top button