BusinessLead NewsWorld

जानिये 66 अरब रुपये के ट्रांजेक्शन की सबसे बड़ी बैंकिंग मिस्टेक में भारत की किस कंपनी के कर्मियों का नाम आया

सिटीबैंक ने गलती से करीब 90 करोड़ डॉलर का कर दिया था भुगतान

New Delhi : दुनिया की सबसे बड़ी बैंकिंग मिस्टेक के बारे में जांच में अब इसके लिए जिम्मेदार लोगों की भी पहचान हो गयी है. जानकारी हो कि अमेरिका की सबसे बड़े बैंकों में शुमार सिटीबैंक से बैंकिंग इतिहास की सबसे बड़ी चूक हुई थी.

इसे सिटीबैंक (Citibank) को भारी नुकसान झेलना पड़ा है. इस चूक में भारत की एक आईटी कंपनी के कर्मचारियों का नाम सामने आया है.

इसे भी पढ़ें : शेयर बाजार हुआ धड़ाम, सेंसेक्स 2100 अंक गिरा, निवेशकों के 5 लाख करोड़ रुपये डूबे

क्या है पूरा मामला

यह मामला विश्व की मशहूर कॉस्मेटिक कंपनी रेवलॉन (Revlon) के एक टर्म लोन से जुड़ा है. रेवलॉन से जुड़े लोन मामले में सिटी बैंक एडमिनिस्ट्रेटिव एजेंट था. बैंक को रेवलॉन को उधार देने वालों को 78 लाख डॉलर के ब्याज का पैसा देना था. लेकिन बैंक ने गलती से करीब 90 करोड़ डॉलर (करीब 66 अरब रुपये) भेज दिए. इसमें मूलधन भी शामिल था.

इसके बाद जब सिटीबैंक से इसकी शिकायत की गयी तो बैंक ने मामले की जांच शुरू की.

सिटी बैंक ने रेवलॉन के लोन एडमिनिस्ट्रेटिव एजेंट के तौर पर काम करते हुए 10 वित्तीय कंपनियों को 90 करोड़ डॉलर भेजे थे. इन कंपनियों के कंसोर्शियम ने रेवलॉन को टर्म लोन दिया था. असल में सिटी बैंक को इन्हें 78 लाख डॉलर के ब्याज का पैसा देना था.

लेकिन बैंक ने गलती से 90 करोड़ डॉलर मूलधन ही इन कंपनियों को भेज दिया. लेंडर्स ने पैसा वापस करने से इनकार कर दिया. मामला कोर्ट में पहुंचा. कोर्ट ने कहा कि जिन लेंडर्स को सिटीबैंक से पैसा मिला है वे इसे रखने के हकदार हैं. सिटीबैंक कोर्ट के इस फैसले को चुनौती देने की योजना बना रहा है.

इसे भी पढ़ें : अमर बाउरी भी हिंदू नहीं हैं, हम उनका डीएनए जांचेंगेः इरफान अंसारी

छह आंखों से गुजरने के बाद भी हो गयी चूक

यह ट्रांजैक्शन सिटी बैंक की सिक्स-आई (Six eye) प्रॉसीजर से गुजरा था. इसके तहत किसी भी लेनदेन को करने से पहले तीन लोग उसे रिव्यू और अप्रूव करते हैं. इस मामले में पहली दो प्रोसेस भारत की आईटी कंपनी विप्रो के कर्मचारियों के हवाले थी.

यह उस काम का हिस्सा था जो विप्रो को आउटसोर्स किया गया था. पहले कर्मचारी (maker) ने पेमेंट की जानकारी मैनुअली बैंक को फ्लेक्सक्यूब लोन प्रोसेसिंग प्रोग्राम में डाली थी.

दूसरे कर्मचारी (checker) ने इस जानकारी को चेक किया था. फाइनल अप्रूवल सिटीबैंक की टीम ने किया था और इसी टीम को ट्रांजैक्शन के लिए जवाबदेह माना जाता है.

इसे भी पढ़ें : झारखंड पेरेंट्स एसोसिएशन की पहल पर बच्चे हुए परीक्षा में शामिल

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: