BusinessJharkhandLead NewsNEWSRanchiTOP SLIDER

जानिए, रांची के किस कारोबारी की एयरवेज सर्विस जल्द भरेगी उड़ान

NCLT ने कालरॉक कैपिटल और मुरारी लाल जालान के कंसोर्टियम का प्रस्ताव किया स्वीकार

New Delhi : नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) ने कालरॉक कैपिटल और मुरारी लाल जालान के कंसोर्टियम के जेट एयरवेज समाधान प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. न्यूज एजेंसी पीटीआई ने बताया कि NCLT की मुंबई बेंच ने प्रस्ताव को मंजूर कर दिया है. NCLT ने डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) और एविएशन मिनिस्ट्री को 90 दिन दिए हैं कि वो जेट एयरवेज को स्लॉट आवंटित करे.

हालांकि, रिपोर्ट का कहना है कि एयरलाइन को उसके ऐतिहासिक घरेलू और इंटरनेशनल रूट मिलने का मुद्दा अभी नहीं सुलझा है. जेट एयरवेज करीब दो साल से दिवालिया समाधान प्रक्रिया से गुजर रही है. कालरॉक-जालान कंसोर्टियम ने बैंकों, वित्तीय संस्थानों और कर्मचारियों को अगले पांच साल में 1200 करोड़ देने और 30 एयरक्राफ्ट के साथ जेट एयरवेज को स्थापित करने का प्रस्ताव दिया था.

जानकारी हो कि UAE में जाकर बस गये बिजनेसमैन मुरारी लाल जालान मूल रूप से रांची के रहनेवाले हैं. इनके परिवार के कई सदस्य अभी भी रांची में ही रह रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :IT विभाग 1 July से किनसे वसूलेगा अधिक TDS, इसकी पहचान के लिए बनाया नया सिस्टम

advt

अप्रैल 2019 में बंद हुआ था ऑपरेशन

जेट एयरवेज ने 17 अप्रैल 2019 को वित्तीय समस्याओं की वजह से अपने सभी ऑपरेशन बंद कर दिए थे. एयरलाइन 120 एयरक्राफ्ट की फ्लीट ऑपरेट करती थी. जेट के पास दर्जनों घरेलू और सिंगापुर, लंदन, दुबई जैसी इंटरनेशनल डेस्टिनेशन थीं. हालांकि, कर्ज बढ़ने की वजह से इसे बंद करना पड़ा. कंपनी कम कीमत वाले विरोधियों का मुकाबला नहीं कर पाई थी.

उसके बाद से जेट एयरवेज दिवालिया कानून के तहत समाधान प्रक्रिया से गुजर रही थी. अक्टूबर 2020 में कमेटी ऑफ क्रेडिटर्स (CoC) ने यूके के कालरॉक कैपिटल और UAE के बिजनेसमैन मुरारी लाल जालान के समाधान प्रस्ताव को मंजूरी दी थी.

इसे भी पढ़ें :जानिए ऐसा क्या हुआ जो कोर्ट ने पूर्व PM एचडी देवगौड़ा पर लगाया दो करोड़ का जुर्माना

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: