Bihar

रेप पीड़िता स्वाती के आरोपों पर चिराग ने जानें क्या कुछ कहा

Patna: चचेरे भाई प्रिंस पर स्वाती नाम की लड़की द्वारा लगाए गए रेप के आरोप पर चिराग पासवान ने आज अपने पीसी में कई बड़ी बातें कहीं.

उन्होंने सबसे पहले तो स्वाती द्वारा लगाए गए तमाम आरोपों को गलत बताया और कहा कि मैंने दोनों को ही पुलिस स्टेशन जाने के लिए कहा था, लेकिन दोनों ने ही इस मामले को रफा-दफा कर दिया.

तो वहीं उन्होंने कहा कि जब मेरे पास ये मामला आया था तो मैंने दोनों को बुलाकर दोनों का पक्ष जानने का कोशिश किया था. लेकिन मुझे दोनों की ही बातों में काफी ज्यादा फर्क नज़र आया.

इसलिए मैंने दोनों को पुलिस स्टेशन जाने का सलाह दिया, लेकिन दोनों में से किसी ने भी पुलिस के पास जाना मुनासिब नहीं समझा.

Sanjeevani

उन्होंने अपना पल्ला झाड़ते हुए ये भी कहा कि अगर मुझे मामले को रखा-दफा ही करना होता तो मैं दोनों को पुलिस के पास जाने के लिए कहता ही नहीं. ऐसे में उन्होंने इन सभी बातों को कहते हुए स्वाती द्वारा लगाए जा रहे तमाम आरोपों को गलत बताया.

इसे भी पढ़ें : पीएम से हो सकती है हेमंत सोरेन की मुलाकात, मांग सकते हैं झारखंड के लिए विशेष पैकेज

हनुमान को अब नहीं चाहिए राम का साथ, चिराग ने साफ किया अपना स्टैंड

चिराग पासवान ने आज अपने पीसी में पीएम मोदी और बीजेपी के साथ रिश्तों पर भी अपना स्टैंड साफ कर दिया. उन्होंने पीसी के दौरान कहा कि अगर हनुमान को राम से मदद लेनी पड़े तो काहे का हनुमान और काहे का राम. आपको बता दें कि चिराग पासवान को लोग पीएम मोदी का हनुमान कहते है.

दरअसल बुधवार को अपने पीसी के दौरान जब एक पत्रकार ने उन से पुछा कि इस मुसीबत की घड़ी में क्या आप अपने राम से मदद की गुहार लगाएंगे.

इसे भी पढ़ें : रिम्स में कोरोना के 49 और ब्लैक फंगस के 22 मरीज, दो लोगों की मौत

तो इस पर चिराग ने जवाब दिया कि अगर हनुमान को राम की मदद लेनी पड़ जाए तो काहे का हनुमान और काहे का राम. उन्होंने अपने इस बात से ये साफ कर दिया कि अब भविष्य में वे बीजेपी के साथ शायद ही कोई संबंध रखे.

आपको बता दें कि रामविलास पासवान ने अपना एक लंबा वक्त बीजेपी को समर्थन देने में दिया. ऐसे में अब जब चिराग पासवान मुसीबत में फंसे है और जब उन्हें बीजेपी की सबसे ज्यादा जरुरत है तब उनके साथ ना तो राम खड़े है ना ही पार्टी.

आपको ये भी बता दें कि लोजपा में आई टूट के पिछले कहा जा रहा है कि बीजेपी का भी हाथ है, क्योंकि बिना बीजेपी के इतना कुछ होना संभव ही नहीं था.

इसे भी पढ़ें : कोरोना काल में भी मरीज फर्श पर इलाज कराने को हैं मजबूर

Related Articles

Back to top button