Lead NewsNationalNEWSWorld

जानिये, कैसे एक घंटे की इस उड़ान ने सदियों के लिए रच दिया इतिहास, भारतवंशी भी रहे शामिल

New Delhi: ब्रिटिश अरबपति व वर्जिन समूह के संस्थापक रिचर्ड ब्रेनसन भारतवंशी एयरोनॉटिकल इंजीनियर शिरिषा बांदला वर्जिन गैलेक्टिक वीएसएस यूनिटी रॉकेट विमान के माध्यम से अंतरिक्ष को छूकर सुरक्षित लौट आए. विमान में अन्य तीन लोग भी सवार थे. भारतीय समयानुसार ब्रिनसन सहयोगियों के साथ अमेरिका के न्यू मैक्सिको से रात 8 बजकर दस मिनट पर उड़ान भरे थे और रात करीब 9 बजकर 12 मिनट पर लौट आए.

 

71 वर्षीय ब्रेनसन की यह उड़ान बेशक करीब एक घंटे की ही रही है, मगर सदियों के लिये इतिहास में दर्ज हो गया है. अंतरिक्ष पर्यटन के लिए मील का पत्थर साबित मानी जा रही है. हालांकि, रॉकेट विमान को शाम 6:30 बजे उड़ान भरनी थी, मगर खराब मौसम की वजह से लॉन्चिंग का वक्त डेढ़ घंटे आगे बढ़ाया गया था. इस यात्रा में ब्रेनसन के चालक दल के सभी सदस्य कंपनी के कर्मचारी थे. उड़ान भरने से पहले ब्रेनसन के रिश्तेदारों ने उन्हें हर्ष के साथ विदा किया था.

 

योजना के मुताबिक ब्रेनसन और उनके साथी जिस रॉकेट विमान से गए, वह पहले मूल यान व्हाइट नाइट टू से करीब 13 किमी की ऊंचाई पर अलग हुआ. जहां उसे अपने रॉकेट इंजन से तेज रफ्तार पाने के लिए ऊर्जा मिली. इसके बाद यह विमान धरती के वातावरण को छोड़कर 88 किमी की ऊंचाई तक पहुंचा, जहां सभी ने अंतरिक्ष की भारहीनता को महसूस किया. इसके बाद यह यान धरती पर लौट आया.

Sanjeevani

अब बेजोस की बारी

ब्रेनसन के बाद एक और अरबपति जेफ बेजोस भी अपनी कंपनी ब्लू ओरिजिन के न्यू शेफर्ड यान से 20 जुलाई को अंतरिक्ष में जाएंगे। बेजोस ने पश्चिमी टेक्सास से अपने लॉन्च की तारीख 20 जुलाई चुनी है ,जो चंद्रमा पर अपोलो 11 के उतरने की 52वीं सालगिरह होगी.

तमिलनाडु से है ब्रैनसन का रिश्ता

बाहरी अंतरिक्ष में जाने वाले पहले अरबपति बनकर इतिहास रचने वाले ब्रिटिश उद्यमी रिचर्ड ब्रैनसन का भारत से भी अनूठा रिश्ता है. 71 वर्षीय ब्रैनसन की जड़ें तमिलनाडु के कडलोर से जुड़ी थीं. ब्रैनसन ने दिसंबर, 2019 में एक डीएनए टेस्ट के बाद खुलासा किया था कि उनके पिता की भारतीय मूल की परदादी आरिया कडलोर की निवासी थीं. ब्रैनसन इस कारण खुद को भारतीय मूल का उद्योगपति मानते हैं. ब्रैनसन के मुताबिक, हर बार जब मैं किसी भारतीय से मिलता हूं, तो मैं कहता हूं कि हो सकता है हम रिश्तेदार हों.

2030 तक 22,500 करोड़ का होगा अंतरिक्ष पर्यटन का सालाना बाजार

ब्रेनसन की कंपनी की तैयारी 2022 से हर हफ्ते लोगों को अंतरिक्ष तक ले जाने की है. 2004 में स्थापित वर्जिन गैलेक्टिक की 2022 से व्यावसायिक उड़ान के लिए अब तक 600 से ज्यादा लोग बुकिंग करा चुके हैं. स्विट्जरलैंड के निवेशक बैंक यूबीएस ने अनुमान लगाया है कि 2030 तक अंतरिक्ष पर्यटन बाजार सालाना करीब 22,500 करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा.

Related Articles

Back to top button