Lead NewsNational

जानिये देश के सबसे अमीर मुकेश अंबानी की सुरक्षा का कैसा है इंतजाम, कितने पैसे होते हैं खर्च

मुकेश अंबानी के घर के बाहर विस्फोटक लदा वाहन मिला था

New Delhi : देश के सबसे अमीर व्यक्ति और रिलायंस इंडस्ट्री के मालिक मुकेश अंबानी के घर के बाहर विस्फोटक मिलने के बाद उनकी सुरक्षा को लेकर सवाल उठ रहे है. मुंबई पुलिस ने उनकी सुरक्षा और कड़ी कर दी है. आइये हम जानते हैं मुकेश अंबानी और उनके परिवार की सुरक्षा की व्यवस्था कैसी है. इसके साथ ही यह भी जानते हैं कि इसमें कितना खर्चा आता है.

इसे भी पढ़ें :सरकारी नौकरी : NTPC के 235 पोस्ट के लिए करें एप्लाई, सैलरी 30,000 – 1,20,000/-Per Month

Z प्लस सिक्युरिटी मिली है, 55 सुरक्षाकर्मी रहते हैं तैनात

उद्योगपति मुकेश अंबानी को Z प्लस सिक्युरिटी मिली हुई है. जिसका महीने का खर्चा 20 लाख रुपये है. ये खर्चा अंबानी खुद ही उठाते हैं. Z प्लस सुरक्षा होने के कारण मुकेश अंबानी की सुरक्षा में एक समय पर 55 सुरक्षाकर्मी तैनात होते हैं. इनमें 10 एनएसजी और एसपीजी कमांडो के साथ अन्य पुलिसकर्मी भी होते हैं.

8 करोड़ 50 लाख की बुलेटप्रूफ कार का करते हैं इस्तेमाल

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उनके बास 170 से ज्यादा कारें हैं. यही नहीं उनकी एक कार बीएमडब्ल्यू 760Li तो पूरी तरह से बुलेटप्रूफ है, जो उनको कड़ी सुरक्षा प्रदान करती है. इस कार की कीमत 8 करोड़ 50 लाख रुपये है. इस कार में लैपटॉप, टीवी स्क्रीन, कॉन्फ्रेंस सेंटर जैसी कई सुविधाएं मौजूद हैं. इसके अलावा उनके बास बेंटले, रोल्स रॉयस जैसी कई लग्जरी व महंगी गाड़ियां हैं.

इसे भी पढ़ें :हजारीबाग में जंगली हाथियों का आतंक, ले ली एक की जान, महिला लापता

पत्नी नीता को भी मिली है Y कैटेगरी की सुरक्षा

मुकेश अंबानी की पत्नी नीता अंबानी को भी Y कैटेगरी की सिक्युरिटी दी गई है. हथियारों से लैस दस सीआरपीएफ कमांडो नीता की सुरक्षा में तैनात रहते हैं. नीता अंबानी देशभर में जहां भी जाती हैं, ये सिक्युरिटी गार्ड्स उनकी हिफाजत करते हैं.

इसे भी पढ़ें :दो-तीन मार्च को फिर से बंगाल दौरे पर रहेंगे शाह, करेंगे रोड शो

अंबानी की सुरक्षा को लेकर सुप्रीम में डाली थी याचिका

सुप्रीम कोर्ट ने रिलायंस इंडस्ट्री के चेयरमैन मुकेश अंबानी व उनके परिवार से जेड प्लस सुरक्षा कवर वापस लेने की मांग करने वाली जनहित याचिका को खारिज कर दिया था.

जस्टिस अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली पीठ ने बॉम्बे हाईकोर्ट के दिसंबर, 2019 के आदेश के खिलाफ दायर याचिका को खारिज करते हुए कहा, किसी व्यक्ति पर खतरे की आशंका का आकलन व समीक्षा करना और इस पर फैसला लेना राज्य सरकार का काम है. यह याचिका हिमांशु अग्रवाल ने दायर की थी.

इसे भी पढ़ें :चाय में नशीला पदार्थ पिलाकर किया दुष्कर्म,अब शादी से कर रहा है इंकार

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: