BusinessDhanbadJharkhand

निरीक्षण अवधि के आखिरी दिन यूपी, बंगाल से भी पहुंचे केएमसीईएल के खरीदार

Dhanbad: झारखंड हाइकोर्ट के निर्देश पर कुमारधुबी में वर्षों से बंद पड़े केएमसीईएल कारखाना की निलामी प्रक्रिया में खरीदारों द्वारा कारखाना निरीक्षण का आज आखिरी दिन था.

निरीक्षण के आखरी दिन बुधवार को ऑफिसियल लिक्विडेटर के चार प्रतिनिधियों की मौजूदगी में कारखाना परिसर में खरीदार एवं प्रतिनिधियों ने कारखाने का निरीक्षण किया. तीन दिनों के इस निरीक्षण में लगभग 10 खरीदारों ने कारखाने का निरीक्षण किया. इसके बाद खरीदार इसका आंकलन लगाएंगे.

इसे भी पढ़ें- झारखंड को केंद्र ने फिर दिया बड़ा झटका, राज्य के खाते से RBI ने फिर काटे 714 करोड़

जानकारी के अनुसार तीन दिनों में यूपी के गाज़ियाबाद, झारखंड के जमशेदपुर तथा धनबाद, पश्चिम बंगाल के कोलकाता तथा दुर्गापुर के खरीदारों ने कारखाना का जायजा लिया.

बता दें कि 23 दिसंबर 2020 को कोर्ट के आदेश पर निलामी की अधिसूचना जारी की गयी थी. टेंडर डालने से पहले खरीदार को कारखाना की चल-अचल संपति का जायजा लेने की बात कही गयी थी. तीन दिन (11 से 13 जनवरी) तक जायजा लेने की तिथि निर्धारित की गयी थी.

नौ दिन (14 से 22 जनवरी) तक प्रपत्र खरीदने की अवधि है. 29 जनवरी को हाइकोर्ट के समक्ष टेंडर खोला जायेगा. इसके बाद निलामी की तिथि की घोषणा की जायेगी. जब से निलामी की अधिसूचना जारी हुई है, कई खरीददार कारखाना का निरीक्षण कर चुके हैं. लेकिन कोई कुछ नहीं बता रहा है.

ऑफिसियल लिक्विडेटर प्रह्लाद मीणा भी एक दो बार आ चुके हैं. लेकिन वो भी साफ कहते हैं कि 29 जनवरी को ही विस्तृत जानकारी दी जायेगी. हाईकोर्ट द्वारा कारखाना की निलामी का आरक्षित मूल्य 110.50 करोड़ रुपए रखा गया है.

ऑफिसियल लिक्विडेटर बिनोद कुमार चौधरी ने प्रेस को ब्रीफ करते हुए कहा कि तीन दिनों के इस निरीक्षण में खरीदारों का काफी उत्साह देखने को मिला है.

अभी तक विभिन्न जगह से 10 खरीदारों द्वारा कारखाने का निरीक्षण किया गया है.
उन्होंने यह भी कहा कि 10 लोगों के साथ ग्रुप में 5-6 लोग भी रहते थे. अगर इस हिसाब से देखा जाए तो 50-60 लोगों ने निरीक्षण किया है.

वहीं आज कोलकाता से आये एक खरीदार देबजीत घोषाल ने कहा कि कारखाने का निरीक्षण करने आये थे, सो देख लिए हैं. अब सोच विचार कर कुछ निर्णय लिया जाएगा.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: