न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

खासमहाल जमीन के लीजधारियों पर कसता शिकंजा, 8633 ने नहीं कराया रिन्यूअल- सरकार वापस लेगी जमीन

नौ जिलों में लीज का नहीं हुआ रिन्यूअल

707

Pravin kumar/Satya Praksh Prasad

Ranchi: राज्य सरकार ने खासमहाल के लीजधारियों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. राज्य के नौ जिलों में खासमहाल जमीन पर बसे 8633 लीजधारकों ने रिन्यूअल नहीं कराया है. जबकि 10174 लीजधारी हैं. इसमें सिर्फ 2376 लीजधारकों ने लीज रिन्यूअल के लिये आवेदन दिया है.

इसे भी पढ़ेंःपथ विभाग की 5000 करोड़ की योजनाओं पर ब्रेक, बोकारो एक्सप्रेस हाइवे पर भी ग्रहण

खासमहाल जमीन की लीज रिन्यूअल करने का मामला पिछले 60 साल से लंबित है. ऐसे में राजस्व विभाग ने कड़ी कार्रवाई की योजना बनाई है. इन जमीनों में कई व्यवसायिक क्षेत्र भी है.

जनवरी 2018 में लीज रिन्यूअल शुल्क घटाया गया

खासमहाल जमीन पर वर्षो से लीज के आधार पर रह रहे लोगों के लिए जनवरी में हुए कैबिनेट की बैठक में लिये निर्णय के बाद, लीज की शर्त और दर कम कर दी गई थी. इससे पहले, 30 सालों के लिए लीज पर ली जाने वाली एक लाख की भूमि पर सरकार 80 हजार रुपये लेती थी.

कैबिनेट के निर्णय के बाद अब नई दर महज 20 हजार रुपये हो गए है. साथ ही लीजधारक के उत्तराधिकारी को अंचल कार्यालय से जारी वंशावली प्रमाणपत्र के आधार पर दी जाएगी. लीज दर कम होने के बावजूद लीजधारक, रिन्यूअल में रूचि नहीं ले रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : पुलिस महकमे के एक खास वर्ग का नौकरशाही में वर्चस्व, राष्ट्रपति से शिकायत

किस जिले में खासमहाल जमीन के कितने लीजधारक

रांची जिला में 1244 लीजधारक हैं, वही खासमहाल की जमीन का कुल रकबा 48 9.73 एकड़ है. पश्चिम सिंहभूम में 2333 लीजधारी हैं, वही कुल रकबा 237.55 एकड़ है. जबकि पूर्वी सिंहभूम में 62 लीजधारक हैं, जिसका कुल रकबा 373.89 है. हजारीबाग में लीजधारकों की संख्या 1499 है.

जबकि खासमहाल जमीन की लीज का रकबा 796.17 एकड़ है. कोडरमा में लीजधारकों की संख्या 258 है, जबकि जमीन की लीज का रकबा 313.61 एकड़ है. साहेबगंज में लीजधारकों की संख्या 2560 है, वही जमीन का रकबा 1421 एकड़ है. गढ़वा में लीजधारकों की संख्या 4 है जबकि खासमहाल जमीन की लीज का रकबा 43.96 एकड़ है. लातेहार जिला में 338 लीजधारी हैं. जिसका रकबा 125.93 एकड़ है. पलामू में 1896 खासमहाल जमीन के लीजधारी है, जिसका कुल रकबा 605 एकड़ है.

इसे भी पढ़ें : घुटन में माइनॉरटी IAS ! सरकार पर आरोप- धर्म देखकर साइड किए जाते हैं अधिकारी

किस जिले में कितने लंबित लीज नवीकरण

साहेबंगज, कोडरमा, चाईबासा, हजारीबाग, पलामू समेत कई जिलों में खासमहाल की जमीन लोगों को लीज पर दी गई है.  खासमहाल की जमीन की लीज रिन्यूअल कराने में रूचि नहीं लेने के कारण सरकार ने इन जमीन पर बसे लोगों को अतिक्रमणकारी माना है. इसके बाद भी लीजधारी नवीकरण नहीं करा रहे हैं. रांची में खासमहाल लीज रिन्यूअल के लंबित मामलों की संख्या 1230 है. वही पश्चिम सिंहभूम में 1482, पूर्वी सिंहभूम में 52, हजारीबाग में 886, कोडरमा में 239, साहेबगंज में सबसे अधिक 2559, जबकि गढ़वा में 4, लातेहार में 338,नपलामू में 1843 की संख्या में मामलों का नवीकरण नहीं किये गये है.

इसे भी पढ़ें : IAS, IPS और टेक्नोक्रेटस छोड़ गये झारखंड, साथ ले गये विभाग का सोफासेट, लैपटॉप, मोबाइल,सिमकार्ड और आईपैड

क्या कहते हैं राजस्व विभाग के सचिव

राजस्व विभाग के सचिव केके सोन ने कहा कि इस पर सख्ती से कार्रवाई की जायेगी. वर्षों से लीजधारकों ने लीज का रिन्यूअल नहीं कराया है. इससे राजस्व की क्षति हो रही है. ऐसे में जमीन को वापस लेने की योजना बनाई जा रही है. जिले के उपायुक्तों को खासमहाल की जमीन की लीज रिन्यूअल का कार्य करना है. इस मामले में जिले के उपायुक्त को निर्देश भी भेजा गया है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: