Jamshedpur

केजीबीवीः निविदा की शर्तों में फेरबदल के खिलाफ सप्लायरों ने शिक्षा विभाग पर दिया धरना

Jamshedpur : झारखंड शिक्षा परियोजना पूर्वी सिंहभूम में कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय तथा अन्य स्कूलों में सामग्री खरीदने के लिए गुरुवार को टेंडर खोलने से पहले निविदा की शर्तों में फेरबदल का आरोप लगते हुए वर्तमान आपूर्तिकर्ताओं ने गुरुवार को  जिला शिक्षा विभाग के गेट के सामने धरने पर बैठे . उनका आरोप है कि 18 अक्तूबर को पूर्वी सिंहभूम उपायुक्त से लिखित शिकायत करने के बाद भी बिना जांच के अपने मनचाहे लोगों को टेंडर देने के लिए टेंडर के नियमों में फेरबदल कर के टेंडर को खोला जा रहा है.

पिछले दस साल से कर रहे काम

शिकायतकर्ता ने अधिकारियों पर आरोप लगाते हुए कहा कि वे लोग पिछले दस साल से कस्तूरबा गांधी विद्यालय तथा अन्य विद्यालयों में खाद्य सामग्री की आपूर्ति का काम कर रहे हैं. पहले कोरोना के चलते भारी नुकसान उठाकर विद्यालयों में खाद्य सामग्री की आपूर्ति की. अब जबकि हालात सुधर रहे हैं, तो बड़े और चहेते कारोबारियों को काम देने के मकसद से टेंडर के नियमों में ही बदलाव कर दिया गया हैं. ऐसा इसलिए किया गया है, ताकि गणेश भंडार, बीके कॉर्पोरेशन, सूरज अग्रवाल, परवाल ब्रदर्स, कमला इंडस्ट्रीज, श्री बालाजी ट्रेडर्स जैसे छोटे कारोबारी टेंडर की प्रक्रिया में भाग ना ले सकें.

Catalyst IAS
ram janam hospital

सरायकेला और चाईबासा से अलग नियम पूर्वी सिंहभूम के लिए क्यों

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

अब सवाल यह उठता है कि जब सरायकेला और पश्चिम सिंहभूम पुराने नियमों से टेंडर की प्रक्रिया पूरी की गयी है, तो सिर्फ पूर्वी सिंहभूम जिले के टेंडर के लिए अलग शर्तों को रखना इस पूरी प्रक्रिया की निष्पक्षता और पारदर्शिता को सवालों के घेरे में खड़ा कर रहा है

इसे भी पढ़ें- सरायकेला बीरबांस की छुटनी महतो को 9 नवंबर को मिलेगा पद्मश्री अवार्ड

 

 

Related Articles

Back to top button