न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

केरल : आतंकी हमले पर कांग्रेस के रवैये से नाराज दिग्गज नेता वडक्कन ने पार्टी छोड़ी, कमल पर मुहर लगा दी

भाजपा में शामिल होने के बाद वडक्कन ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि जब पाकिस्तानी आतंकी हमारी जमीन पर हमला कर रहे थे तब कांग्रेस पार्टी की प्रतिक्रिया बेहद दुखद थी

26

Thrissur :  2019 लोकसभा चुनाव से पहले केरल कांग्रेस के दिग्गज नेता टॉम वडक्कन भाजपा में शामिल हो गये हैं. आज गुरुवार 14 मार्च को दिल्ली में टॉम वडक्कन ने केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद की मौजूदगी में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की.  इसके बाद उन्होंने भाजपा बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से भी मुलाकात की.  दिलचस्प बात यह कि  कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जिस समय केरल के त्रिचुर में रैली कर रहे थे, उसी समय वडक्कन ने कमल फूल पर मुहर लगा दी. बता दें कि वडक्कन केरल के त्रिचुर से ही आते हैं.

भाजपा में शामिल होने के बाद वडक्कन ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि जब पाकिस्तानी आतंकी हमारी जमीन पर हमला कर रहे थे तब कांग्रेस पार्टी की प्रतिक्रिया बेहद दुखद थी,  इससे मुझे गहरा आघात लगा. इसीलिए मैंने कांग्रेस छोड़ दी. जब एक राजनीतिक दल देश के खिलाफ जाकर ऐसी स्थिति में खड़ा होता है तो मेरे पास पार्टी छोड़ने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचता.

अजीम प्रेमजी एशिया के दानवीर कर्ण, अबतक 1.45 लाख करोड़ रुपये कर चुके हैं दान

राष्ट्रीय प्रवक्ता रहे टॉम वडक्कन कई बड़े पदों पर रह चुके हैं

बता दें कि कई बड़े पदों पर रहे वडक्कन के जाने से केरल में कांग्रेस को असर पड़ेगा. जान लें कि राष्ट्रीय प्रवक्ता रहे टॉम वडक्कन कई बड़े पदों पर रह चुके हैं. वडक्कन अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव, शिकायत-निवारण समिति के प्रमुख और फिल्म प्रमाणन ट्रिब्यूनल के अपीलीय सदस्य भी रह चुके हैं.  जानकारों के अनुसार उनके भाजपा में शामिल होने से कांग्रेस को केरल में थोड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है.  वहीं भाजपा के लिहाज यह दक्षिण में पार्टी के पैर मजबूत करने में मददगार साबित हो सकता है. बता दें कि हाल ही में महाराष्ट्र कांग्रेस के बड़े नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष राधाकृष्ण विखे पाटिल के पुत्र ने भी भाजपा का दामन थाम लिया था. इसके बाद से ही उनके भी पद छोड़ने और पाला बदलने की अटकलें लगाई जा रही हैं.

इसे भी पढ़ेंःआतंकी अजहर मामले पर कांग्रेस का तंजः विफल विदेश नीति फिर उजागर, काम नहीं आयी हगप्लोमेसी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: