न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

युवा पीढ़ी का फर्ज है सिद्धो-कान्हो का अलख जलाये रखें : सुदेश

संताल दिवस के मौके पर भोगनाडीह पहुंची स्वाभिमान यात्रा

2,361

Ranchi: युवा पीढ़ी का यह फर्ज है कि वे महान क्रांतिकारी सिद्धो-कान्हो के अलख को जलाये रखें. महान सपूतों के विचार स्थापित रखकर ही झारखंडी जनमानस को जिंदा रखा जा सकता है. ये बातें आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश कुमार महतो ने संताल दिवस के मौके पर स्वराज स्वाभिमान यात्रा के दौरान कही. सुदेश महतो शनिवार को भोगनाडीह पहुंचे थे. जहां उन्होंने सिद्धो-कान्हो के वंशजों से मुलाकात भी की. सुदेश महतो ने कहा कि संताल दिवस पर भोगनाडीह आना उनके लिए गौरव का क्षण है. मेरी यह कोशिश रहेगी कि इतिहास के  वीर सपूतों के वंशजों के साथ खड़ा रहूं. यहां की जनाकांक्षा के अनुरूप चलूं. कहा कि सिद्धो-कान्हो ने जो मशाल जलाई थी, उसे नई पीढ़ी सदैव जलाये रखे. इस काम में वे भी भागीदार बनेंगे. उन्होंने लोगों को स्वराज स्वाभिमान यात्रा का मकसद बताते हुए कहा कि इस यात्रा के जरिये वे विचारों के आदान-प्रदान को मजबूत बनाने की कोशिश में जुटे हैं. गांव-पंचायत के विषयों पर वैचारिक तालमेल होने से ही लोकतंत्र जिंदा रहेगा. सुदेश महतो ने कहा कि अबतक एक हजार गांवों की यात्रा पूरी कर ली गयी है. आगे और चार हजार गांव जाना है.

eidbanner

आम जनता को हाशिये पर छोड़ दिया गया है 

हिरणपुर के दलादली गांव की चौपाल में श्री महतो ने कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था में अवाम को महज वोट का हिस्सेदार बनाकर हाशिये पर छोड़ दिया गया है. राजनीति में इस रिवाज को लेकर जो धूल जमी है. उसे हटाने के लिए गांव के लोगों को आगे आना होगा. नेताओं-अफसरों के मुंह पर हक अधिकार की बात करनी पड़ेगी. वे जहां भी जा रहे हैं इस के बदलाव के लिए जनमत तैयार कर रहे हैं. थोड़ा वक्त लग सकता है पर वह दिन दूर नहीं तरह जब यह बड़ी बहस का विषय होगा और वे अपने मकसद में सफल होंगे.

सिद्धो-कान्हो के वंशज ने बतायी पूरी कहानी 

सिद्धो-कान्हो के वंशज मंगल मुर्मू ने गांव के लोगों को अपने गोद लिए जाने और उच्च शिक्षा हासिल करने की पूरी कहानी बताई. उन्होंने बताया कि सुदेश महतो ने इस इलाके से चार लोगों को उच्च शिक्षा दिलाने की जो बीड़ा उठाया है, उसे पूरा कर रहे हैं. मंगल ने बताया कि वे लगातार स्वराज स्वाभिमान यात्रा का भागीदार बनकर राज्य में घूम रहे हैं. इस यात्रा से संताल परगना के लोगों और खासकर आदिवासी युवाओं और महिलाओं की बड़ी उम्मीदें हैं. मौके पर बडी संख्या में गांव के लोग मौजूद थे. कार्यक्रम में सिद्धो-कान्हो के वंशजों और गांव के लोगों ने भी अपने-अपने विचार रखे.

इसे भी पढ़ेंः झारखंड में होगा राज्य जनजातीय आयोग का गठन: सीएम

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: