न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

 केदार तुंगनाथ धाम के कपाट हुए बंद, अब मार्कंडेय मंदिर में रहेंगे भगवान

आज सेामवार को विधि-विधान के साथ तृतीय केदार भगवान तुंगनाथ के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिये गये.

37

Dehradun : आज सेामवार को विधि-विधान के साथ तृतीय केदार भगवान तुंगनाथ के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिये गये.  बता दें कि श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति और हक-हकूकधारियों द्वारा कपाट बंद करने की सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी थी. सोमवार को प्रात: सात बजे मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना शुरू की गयी.  इस क्रमें भगवान तुंगनाथ का श्रृंगार कर उन्हें भोग लगाया गया.  इसके बाद वैदिक मंत्रोच्चार के साथ आराध्य की मूर्ति को धार्मिक अनुष्ठान और परंपराओं के निर्वहन के साथ चल विग्रह उत्सव डोली में विराजमान कर मंदिर परिसर में लाया गया.  यहां अन्य धार्मिक औपचारिकताएं पूरी की गयी.  इसके बाद प्रात: 10.15 बजे तुंगनाथ मंदिर के कपाट बंद शीतकाल के छह माह के लिए लिए बंद कर दिये गये.

इसे भी पढ़ें: ईडी ने बनाया रिकॉर्ड, तीन साल में 33,500 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की

30 अक्तूबर को डोली द्वितीय पड़ाव भनकुन गुफा में रात्रि विश्राम करेगी

बता दें कि भगवान तुंगनाथ चल विग्रह उत्सव डोली में मंदिर की परिक्रमा कर अपने शीतकालीन गद्दी स्थल मार्कंडेय मंदिर मक्कूमठ के लिए प्रस्थान करते हुए रात्रि प्रवास के लिए पहले पड़ाव चोपता पहुंचेंगे.  30 अक्तूबर को डोली द्वितीय पड़ाव भनकुन गुफा में रात्रि विश्राम करेगी और 31 अक्तूबर को अपने शीतकालीन गद्दी स्थल मार्कंडेय मंदिर मक्कूमठ पहुंचेगी.  यहां पुजारियों द्वारा विशेष पूजा-अर्चना व धार्मिक अनुष्ठान के साथ आराध्य को भोग लगाया जायेगा.  इसके बाद अपराह्न तीन बजे भोग मूर्ति को गर्भगृह में स्थापित किया जायेगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: