Crime NewsDhanbadJharkhand

धनबाद जेल में बंद सुमित तुरी की मौत पर कतरास चौक जाम, पुलिस के खिलाफ कार्रवाई की मांग

Dhanbad: लोहा चोरी के आरोप में जेल में बंद लकड़का 4 नम्बर बस्ती के युवक 19 वर्षीय सुमित तुरी उर्फ झूपड़ा की शनिवार को हुई मौत के विरोध में कतरास के नागरिक आंदोलन पर उतर आए हैं. सैकड़ों की संख्या में छोटे बड़े महिला पुरुष ने कतरास थाना चौक को जाम कर दिया. आंदोलनकारी कतरास थाना की पुलिस के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं.

मौत के लिए कतरास थाना की पुलिस को जिम्मेवार ठहरा रहे हैं. कतरास थानेदार रासबिहारी लाल ने आंदोलनकरियों को समझाने का प्रयास किया लेकिन वे नहीं माने. हालात ऐसे हो गए जिसके बाद पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा. कतरास रामकनाली और अंगरपथरा की पुलिस मौके पर मौजूद है.

advt

इसे भी पढ़ें:BIG NEWS : बिहार हो जाएगा मालामाल, जानें किस जिले में मिला देश का सबसे बड़ा GOLD भंडार

सुमित के स्वजनों का कहना है कि 1 नवम्बर को पुलिस ने गिरफ्तार किया था. 4 दिनों तक थाना में रखकर उसकी बेरहमी से पिटाई किया. जब हालत खराब हुई तो आनन फानन में 5 नवंबर को लोहा चोरी के झूठे मामले जेल भेज दिया.

परिजनों ने ये भी आरोप लगाया गया कि सुमित को छोड़ने के एवज में उनसे 50 हजार रुपये रिश्वत की मांग की गई. पैसे नहीं देने पर थाने में उसकी जमकर पिटाई के बाद जेल भेजा गया. जहां उसकी मौत हो गई.

इसे भी पढ़ें:घर के बाहर आरएफआईडी लगाने को कोई मांगे पैसे तो करें कंप्लेन

परिजनों ने पुलिस पर मारपीट और हत्या का आरोप लगाया है. परिजन जिला प्रशासन से न्याय की गुहार लगा रहे हैं. बता दें कि सुमित के पिता राज मिस्त्री का काम कर परिवार चलाते है. सुमित बड़ा पुत्र था.

सड़क जाम की सूचना पर बाघमारा SDPO निशा मुर्मू घटनास्थल पर पहुंची और जाम कर रहे लोगों को न्यायोचित कार्रवाई का भरोसा दिया. सुमित की मां गुडिया देवी और पिता किशोर तुरी को समझाते हुए वार्ता के लिए थाना चलने को कहा.

थाना जाने से इंकार करते हुवे सभी मौके पर वार्ता करने को कह रहे हैं. इधर जाम से सड़क में आवाजाही ठप है. दोनों ओर वाहन की कतार लगी हुई है.

इसे भी पढ़ें:चलती ट्रेन में सवार होने के चक्कर में महिला गिरी, सुरक्षाकर्मियों ने बचाई जान, देखें VIDEO

वहीं पूरे मामले में धनबाद जेल अधीक्षक ने कहा कि सुमित को जॉन्डिस की शिकायत थी, जिसके बाद एक दिसम्बर को उसे SNMCH में भर्ती कराया गया था. जहां शनिवार को उसकी मौत हो गई.

वहीं बाघमारा SDPO निशा मुर्मू का कहना है कि मामला पुराना है, मौत मारपीट से हुई या बीमारी से, यह जांच के बाद ही पता चलेगा. पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही सच्चाई सामने आ सकती है कि मौत का असली कारण क्या है, उसके बाद अगर पुलिस वाले दोषी पाए जाएंगे तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

इसे भी पढ़ें:एनटीपीसी ने जेबीवीएनएल को बिजली काटने का दिया नोटिस, गहरा सकता है बिजली संकट

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: