न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

आतंकवाद के बीच फुटबॉल के रास्ते नये भविष्य की तलाश में कश्मीरी युवा

कश्मीर की एक फुटबॉल अकैडमी युवाओं के बीच मिसाल बन कर उभरी है. आतंकवाद, तनाव और हिंसा की खबरों के बीच कश्मीर घाटी के दो युवाओं  द्वारा शुरू की गयी फुटबॉल अकैडमी घाटी में चर्चा का विषय है.

105

 Srinagar :  कश्मीर की एक फुटबॉल अकैडमी युवाओं के बीच मिसाल बन कर उभरी है. आतंकवाद, तनाव और हिंसा की खबरों के बीच कश्मीर घाटी के दो युवाओं  द्वारा शुरू की गयी फुटबॉल अकैडमी घाटी में चर्चा का विषय है. खबरों के अनुसार कश्मीर घाटी के 3000 से अधिक युवक अपने नये भविष्य का रास्ता तलाश रहे हैं, जो उऩ्हें आतंकवाद की दुनिया से दूर ले जाये. बता दें कि  घाटी के रहने वाले संदीप चट्ठू और शमीम मिराज ने साल 2016 में इस  अकैडमी की शुरुआत की थी, जिसमें आज लगभग तीन हजार से अधिक युवा फुटबॉल की प्रैक्टिस के लिए आते हैं.  जान लें कि अकैडमी की शुरुआत करने वाले शमीम खान पूर्व में दिल्ली के प्रसिद्ध सेंट स्टीफंस कॉलेज के छात्र रहे हैं.  संदीप श्रीनगर में एक होटेल चलाते हैं.  दोनों के अनुसार कश्मीर घाटी में की गयी  इस शुरुआत से कश्मीरी युवाओं की ऊर्जा को सकारात्मक दिशा में ले जाने का प्रयास किया जा रहा है.
इसे भी पढ़ें –   प्रशांत किशोर ने खोला राज, मोदी जांबाज और जोखिम उठाने वालों में, राहुल यथास्थितिवाद में यकीन रखने वाले

eidbanner

 अकैडमी शुरू करने वाले शमीम मिराज एक कश्मीरी मुस्लिम हैं और संदीप कश्मीरी पंडित

Related Posts

बंगाल को तरजीह, सांसद अधीर रंजन चौधरी लोकसभा में कांग्रेस के नेता होंगे

अधीर रंजन चौधरी के साथ-साथ केरल के नेता के सुरेश, पार्टी प्रवक्ता मनीष तिवारी और तिरुवनंतपुरम के सांसद शशि थरूर इस पद के लिए दौड़ में शामिल थे.

अकैडमी में फुटबॉल सीखने वाले सैकडों छात्रों में हिंदू, मुस्लिम, बौद्ध समेत तमाम धर्मों और बोलियों के छात्र शामिल हैं. अकैडमी शुरू करने वाले शमीम मिराज एक कश्मीरी मुस्लिम हैं और संदीप कश्मीरी पंडित.  ऐसे में यह साबित ह जाता है कि फुटबॉल ने कैसे कश्मीर घाटी में लोगों के बीच एकता लाकर सियासत द्वारा बनाये गये भेदभाव को तोड़ा है.  शमीम कहते हैं कि फुटबॉल और अन्य खेलों को बढ़ावा देकर कश्मीर घाटी के युवाओं का भविष्य और भी बेहतर बनाया जा सकता है. कहा कि फुटबॉल अकैडमी में यही कोशिश की जा रही है. संदीप कहते हैं कि तमाम कोशिशों के बावजूद फुटबॉल की प्रैक्टिस के लिए मुश्किलों का सामना करना पड़ता है.  बताया कि उनकी टीम श्रीनगर के जिस ग्राउंड में प्रैक्टिस करती है, उसमें अभी तक टॉइलट तक नहीं है. बताया कि  खिलाड़ियों की मेहनत से अकैडमी की टीम ने इंटरनैशनल फुटबॉल लीग में शामिल होने के लिए क्वालिफाई किया है, लेकिन अब तक टीम को कोई भी स्पॉन्सर नहीं मिलने के कारण परेशानी है. संदीप के अनुसार इन तमाम परेशानियों के बाद भी खिलाड़ी अपने सपनों को साकार करने के लिए मेहनत कर रहे हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: