न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कर्नाटक : जेडीएस ने लोकसभा चुनाव अकेले लड़ने के संकेत दिये, कांग्रेस को लग सकता है झटका

जनता दल सेक्‍युलर (जेडीएस) ने कर्नाटक में लोकसभा चुनाव अकेले लड़ने के संकेत दिये हैं. इस खबर से केंद्र की मोदी सरकार को 2019 लोकसभा चुनाव में मात देने के लिए राष्‍ट्रीय गठजोड़ बनाने में लगी कांग्रेस पार्टी को झटका लग सकता है

1,195

Bengaluru : जनता दल सेक्‍युलर (जेडीएस) ने कर्नाटक में लोकसभा चुनाव अकेले लड़ने के संकेत दिये हैं. इस खबर से केंद्र की मोदी सरकार को 2019 लोकसभा चुनाव में मात देने के लिए राष्‍ट्रीय गठजोड़ बनाने में लगी कांग्रेस पार्टी को झटका लग सकता है. दक्षिण भारत के प्रवेश द्वार कहे जाने वाले कर्नाटक में  कांग्रेस की सहयोगी पार्टी जनता दल सेक्‍युलर (जेडीएस) ने कहा है कि तीन राज्‍यों में हुए चुनाव में जीत के बाद कांग्रेस अकेले फैसले ले रही है. साथ ही संकेत दिया कि अगर उसने ऐसा करना बंद नहीं किया तो वह अकेले लोकसभा चुनाव लड़ सकती है. बता दें कि जेडीएस ने बुधवार को कांग्रेस को छोड़कर अकेले लोकसभा चुनाव लड़ने के संकेत दिये. बता दें कि जेडीएस अगस्‍त में हुए पंचायत चुनाव में ऐसा कर चुकी है. हालांकि जेडीएस के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष एचडी देवगौड़ा ने कहा कि उनकी पार्टी ने अभी कोई फैसला नहीं लिया है.

mi banner add

कांग्रेस पार्टी बड़े भाई जैसा व्‍यवहार करती है

Related Posts

कश्मीर में अशांति फैलाने के लिये यासीन मलिक ने ISI से लिए पैसे: NIA

टेरर फंडिंग से अर्जित की 15 करोड़ की संपत्ति

गौड़ा ने कहा, यह इस बात पर निर्भर करता है कि कांग्रेस पार्टी हमारे साथ कितने सम्‍मान के साथ व्‍यवहार करती है.  उधर, जेडीएस के प्रवक्‍ता ने कहा कि पार्टी के नेताओं की राय है कि दोनों दलों यानी कांग्रेस-जेडीएस में फ्रेंडली फाइट हो. बता दें कि दोनों दलों में मतभेद की ताजा वजह कांग्रेस की ओर से राज्‍य सरकार द्वारा संचालित बोर्डों और निगमों में एकतरफा नियुक्ति का ऐलान है जिसमें कुछ ऐसे भी हैं जो जेडीएस मंत्रियों के विभागों के अंतर्गत आते हैं. साथ ही  कांग्रेस ने अपने पार्टी कार्यकर्ता को मुख्‍यमंत्री का राजनीतिक सचिव बना दिया है जिससे जेडीएस नाराज हो गया है. जेडीएस के प्रवक्‍ता रमेश बाबू ने कहा, हमने अक्‍सर देखा है कि कांग्रेस पार्टी बड़े भाई जैसा व्‍यवहार करती है.  पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं की राय है कि हमें राज्‍य की सभी 28 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ना चाहिए.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: