न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कांटाटोली फ्लाईओवर के काम को वाटर पाइपलाइन ने रोका

प्रोजेक्ट पूरा होने में हो सकती है देरी

412

Ranchi : कांटाटोली फ्लाईओवर का निर्माण कार्य पिछले एक महीने से धीमा पडा है. फ्लाईओवर का काम आगे बढाने के लिए वहां सडक के नीचे की मेन वाटर पाइपलाइन का डायवर्सन करना जरूरी है. बिना पाइपलाइन डायवर्सन के फ्लाईओवर के निर्माण कार्य को आगे तेजी नहीं लाया जा सकता है. फ्लाईओवर के लिए जहां नींव डालनी है, वहां पर सड़क के नीचे मेन पाइपलाइन होने की जानकारी पीएचईडी विभाग से मिली है. यह पाईपलाइन काफी पुरानी है. जुडको के अधिकारियों का कहना है कि यहां नींव का काम शुरू किया गया तो पाइप फट सकता है. इसलिए नींव के पहले पाईपलाइन को यहां से शिफ्ट करना पडेगा. इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी गई है.

प्लाईओवर निर्माण के लिए दो बार टेंडर, कोई भी एजेंसी तैयार नहीं

फ्लाईओवर के निर्माण कार्य को जारी रखने के लिए जुडको अब तक दो बार टेंडर भी कर चुका है. लेकिन इस काम को करने के लिए कोई भी एजेंसी तैयार नहीं है. जिसकी वजह से टेंडर दो बार रद्द करना पडा. अब इसके लिए तीसरी बार टेंडर निकाला गया है. जिसमें एक एजेंसी ने टेंडर डाला है. सिंगल बिडर होने की वजह से इस एजेंसी को काम देने की औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं.

इसे भी पढ़ें-कोयला घोटाला: ED ने जायसवाल निको ​ग्रुप की 101 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की

सिंगल बीडर कंपनी के पास कई खामियां

तीसरी बार के टेंडर में एक मात्र बीडर मदनलाल बजाज नाम की कंपनी है. जानकारी के अनुसार इस एजेंसी की टेक्निकल और फाइनांशियल संबंधी दस्ताजवेजों में कई कमियां है. अब मदनलाल बजाज एजेंसी की इन कमियों को नजरअंदाज करके काम देने की तैयारी की जा रही है.

विरोध के डर से काम नहीं करना चाहती कंपनियां

पाइपलाइन डाइवर्ट करने में करीब 7 करोड़ 20 लाख खर्च होंगे. लेकिन पाइपलाइन की कोई भी एक्सलपर्ट एजेंसी इस काम में हाथ डालना नहीं चाहती है. एजेंसिंयों का कहना है कि वहां स्थानीय विवादों के बीच इस काम को करने का मतलब सिक्योारिटी डिपोजिट फंसाना है. एजेंसियां एक प्रतिशत सिक्योरिटी डिपोजिट देने से भी भाग रहे हैं. यदि समय पर काम पूरा नहीं हो सकता तो डिबार, ब्लैकलिस्टेड और डिपोजिट जप्ती की प्रक्रिया भी अलग से झेलनी पडती है.

फ्लाईओवर के फाउंडेशन के लिए जिला प्रशासन के अप्रूवल का इंतजार

इधर फ्लाईओवर निर्माण के काम में तेजी लाने के लिए अधिकारी लगे हुए हैं. पाइपलाइन डायवर्सन का काम पूरा होने तक कैसे काम को आगे बढाया जाय, इस पर जोर दिया जा रहा है. अधिकारी यह उपाय ढूंढने में लगे हुए हैं कि बिना ट्रैफिक समस्या के काम जारी रहे.

इसे भी पढ़ें-दिन भर गांजा पी कर जहां-तहां रात गुजारते हैं रविन्द्र पांडे- ढुल्लू महतो

जल्द शुरु होगा पहले फेज का काम

पहले फेज में कांटाटोली चौक से मंगल टावर तक 8 पिलर टावर की बनाने की प्रक्रिया जल्द शुरू होगी. इसके लिए जिला प्रशासन और जुडको की टीम ने साइट विजिट किया है. उम्मीद की जा रही है कि जिला प्रशासन से काम शुरू करने का अप्रूवल मिल जायेगा और मंगलवार से पीलर बनाने का काम शुरू हो जायेगा.

कांटाटोली फ्लाईओवर के लिए एजेंसी का चयन अप्रैल 2017 में ही चयन कर लिया गया था. एग्रीमेंट के हिसाब से यह काम दो सालों में यानि अप्रैल 2019 तक काम पूरा होना चाहिए. लेकिन जिस तरह की चुनौतियां देखने को मिल रही है, काम पूरा होने में देरी लग सकती है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.


हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: