JharkhandRanchi

कनहर बराज प्रोजेक्ट : मुख्य सचिव का राज्यों की सीमा पर स्थित जमीन की मालिकाना स्थिति 28 फरवरी तक स्पष्ट करने का निर्देश  

Ranchi : राज्य के गढ़वा और पलामू जिलों के खेतों की सिंचाई के लिए बन रही कनहर बराज परियोजना के कार्यों को तेज करने का निर्देश मुख्य सचिव डॉ. डी के तिवारी ने दिया है. उन्होंने बराज के सभी प्राथमिक कार्यों की समय सीमा तय की और अधिकारियों को निर्देश दिया कि तय समय सीमा के भीतर अनुपालन सुनिश्चित करें.

साथ ही छत्तीसगढ़ और झारखंड के जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंताओं को आपस में मिलकर दोनों राज्यों की सीमा पर स्थित जमीन की मालिकाना स्थिति 28 फरवरी तक स्पष्ट कर संयुक्त रिपोर्ट देने का निर्देश दिया.

मुख्य सचिव झारखंड मंत्रालय में कनहर बराज प्रोजेक्ट की गतिविधियों की समीक्षा कर रहे थे. मालूम हो कि प्रोजेक्ट से जुड़ी 58.01 हेक्टेयर जमीन को झारखंड छत्तीसगढ़ की सीमा में मान रहा है, लेकिन छत्तीसगढ़ का कहना है कि यह जमीन 79.55 हेक्टेयर है. सीमा रेखा पर स्थित इस जमीन की वास्तविक स्थिति स्पष्ट नहीं होने से भी प्रोजेक्ट के काम में अपेक्षा के अनुरूप प्रगति नहीं हो पा रही है.

advt

इसे भी पढ़ें : विनय चौबे का सीएम का प्रधान सचिव बनना तय, कार्मिक ने सुनील बर्णवाल समेत चुनाव आयोग भेजे तीन नाम

प्रोजेक्ट की पूरी जमीन की स्थिति स्पष्ट कर लें

कनहर बराज प्रोजेक्ट के लिए पलामू और गढ़वा जिले में कुल 1019 हेक्टेयर जमीन की जरूरत पड़ेगी. उसमें से 866.62 हेक्टेयर जमीन की वास्तविक स्थित ज्ञात हो चुकी है. दोनों जिला के उपायुक्तों ने समीक्षा के दौरान बताया कि चिह्नित जमीन में से 90 प्लाटों की प्रकृति स्पष्ट होनी बाकी है. मुख्य सचिव ने तीन फरवरी तक पूरी जमीन की स्थिति स्पष्ट करने का निर्देश उपायुक्तों को दिया.

वहीं जमीन की प्रकृति स्पष्ट कर जंगल-झाड़ से जुड़ी जमीन को फॉरेस्ट क्लीयरेंस के लिए वन विभाग को ऑनलाइन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया. जल संसाधन विभाग तथा वन विभाग को निर्देश दिया गया कि फॉरेस्ट क्लीयरेंस से संबंधित जमीन पर स्थित पेड़ों के चिह्नितीकरण का काम 30 अप्रैल तक आपस में तालमेल कर पूरा कर लें.

इसे भी पढ़ें : धनबाद में नहीं दिख रहा जल संरक्षण अभियान का असर, भेलाटांड़ में प्रतिदिन बह रहा है हजारों लीटर पानी

adv

प्रोजेक्ट का सर्वाधिक लाभ गढ़वा को मिलेगा

छत्तीसगढ़ से झारखंड में प्रवेश करनेवाली कनहर नदी पर बराज बनने से इसका सर्वाधिक लाभ गढ़वा जिले के किसानों को होगा. गढ़वा के भवनाथपुर, विशुनपुर, चिनिया, डंडई, धुरकी, गढ़वा, कांडी, केतार, मझिआंव, मेराल, नगर उंटारी, रमना, रंका और पलामू के चैनपुर प्रखंड के खेतों को बराज के पानी से सिंचित करने की योजना है.

बैठक में मौजूद अधिकारी

मुख्य सचिव डॉ. डीके तिवारी की अध्यक्षता में संपन्न समीक्षा बैठक में जल संसाधन विभाग के अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह, झारखंड और छत्तीसगढ़ के जलसंसाधन विभाग के अभियंता प्रमुख समेत अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें : लाभुक चयन नहीं होने के कारण तीन साल तक अंतरजातीय विवाह करने वाले दंपत्तियों को नहीं मिला लाभ

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button