न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कन्हैया कुमार इफेक्ट : कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल ने देशद्रोह के कानून को खत्म करने की मांग की

असली देशद्रोह तब होता है जब सत्ता में बैठे लोग संस्थाओं के साथ छेड़छाड़ करते हैं, कानून का दुरुपयोग करते हैं, हिंसा भड़काकर शांति एवं सुरक्षा की स्थिति खराब करते हैं.

120

 NewDelhi :  कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने देशद्रोह से जुड़ी भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए को खत्म करने की पैरवी करते हुए बुधवार को कहा कि वर्तमान में इस औपनिवेशिक कानून की जरूरत नहीं है.  उनका यह बयान उस वक्त आया है जब जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में दो साल पहले हुई कथित नारेबाजी के मामले में दिल्ली पुलिस ने हाल ही में कन्हैया कुमार और अन्य के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया है जिसमें धारा 124ए भी लगाई गयी है. सिब्बल ने ट्वीट किया, देशद्रोह के कानून (आईपीसी की धारा 124ए) को खत्म किया जाये. यह औपनिवेशिक है.

उन्होंने कहा, असली देशद्रोह तब होता है जब सत्ता में बैठे लोग संस्थाओं के साथ छेड़छाड़ करते हैं, कानून का दुरुपयोग करते हैं, हिंसा भड़काकर शांति एवं सुरक्षा की स्थिति खराब करते हैं. सिब्बल ने कहा, इन लोगों को 2019 (लोकसभा चुनाव) में दंडित करिए, सरकार बदलो, देश बचाओ.

कन्हैया कुमार और उनके साथियों ने जेएनयू परिसर में नारेबाजी की थी

दो साल पहले 2016 में हुई कथित नारेबाजी के मामले में दिल्ली पुलिस ने कन्हैया कुमार, उमर खालिद, अनिर्बान भट्टाचार्य और अन्य दस लोगों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया है.  जिसमें उन सभी पर देशद्रोह (Sedition law) का आरोप लगाया गया है. मामला फरवरी 2016 का है, जब कन्हैया कुमार और उनके दोस्तों ने मिल कर संसद पर हमला करने वाले अफजल गुरु को फांसी दिये जाने के विरोध में नारेबाजी की थी. कहा जा रहा है कि दिल्ली पुलिस के पास इन सभी के खिलाफ पुख्ता सबूत हैं, जिनके बल पर गिरफ्तारी हो चुकी है, नारेबाजी के दौरान ली गयी वीडियो फुटेज है और सुप्रीम कोर्ट में बारह सौ पन्ने का आरोप पत्र भी दायर हो चुका है.

Related Posts

जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा,  स्वतंत्रता उन लोगों पर जहर उगलने का माध्यम बन गयी  है, जो अलग तरह से सोचते हैं

चंद्रचूड़ के अनुसार खतरा तब पैदा होता है जब आजादी को दबाया जाता है, चाहे वह राज्य के द्वारा हो, लोगों के द्वारा हो या खुद कला के द्वारा हो.

SMILE

जिसमें लिखा गया है कि कन्हैया कुमार और उनके साथियों ने जेएनयू परिसर में नारेबाजी की थी.  भारत तेरे टुकड़े होंगे, इंशा अल्लाह, इंशा अल्लाह, कश्मीर की आजादी तक जंग रहेगी या ‘भारत मुल्क को एक झटका और दो.   बता दं कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने  2016 में कन्हैया की गिरफ्तारी का विरोध किया था और जेएनयू भी पहुंच गये थे, लेकिन आज वह आज खामोश है; अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल  देशद्रोह के कानून (आईपीसी की धारा 124ए) को खत्म करने की मांग कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :  सीबीआइ के नये निदेशक की नियुक्ति के लिए समिति की बैठक 24 जनवरी को होने की संभावना’

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: