Lead NewsNational

राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस में शामिल हुए कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवानी

New Delhi : सीपीआई नेता व जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवानी मंगलवार को कांग्रेस में शामिल हो गये. इस मौके पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने दोनों युवा नेताओं को पार्टी की सदस्यता दिलाई. बता दें कि हाल ही में कन्हैया कुमार ने राहुल गांधी से मुलाकात की थी जिसके बाद से ही राजनीतिक गलियारे में अटकलें तेज हो गई थीं.

बहरहाल, राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि कन्हैया सिर्फ बिहार तक सीमित नहीं रहेंगे उन्हें पार्टी राष्ट्रीय स्तर पर भी मैदान में उतार सकती है. बताया जा रहा है राहुल गांधी से पहले कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवानी ने चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से भी मुलाकात की थी.

इसे भी पढ़ें :लातेहार में नक्सलियों और पुलिस के बीच मुठभेड़, एक नक्सली मारा गया, झारखंड जगुआर के डिप्टी कमांडेंट घायल

Sanjeevani

पर्दे के पीछे प्रशांत किशोर

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, प्रशांत किशोर ने ही राहुल गांधी को राय दी थी कि पुराने नेताओं का असर अब पार्टी में समाप्त हो गया है, इसलिए युवाओं को मौका देना चाहिए. इसलिए कन्हैया और जिग्नेश की कांग्रेस में एंट्री हो रही है. बता दें कि कन्हैया कुमार बीते डेढ़ सालों से राजनीति में कम सक्रिय हैं.

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान की अदालत ने ईशनिंदा के आरोप में स्कूल की प्रधानाध्यापिका को मृत्युदंड दिया

बिहार कांग्रेस के कई नेता मौन

उधर, बिहार में कांग्रेस के नेता कन्हैया की एंट्री पर कुछ भी खुलकर बोलने से कतरा रहे हैं. बताया जा रहा है कई वरिष्ठ नेता कन्हैया के आने से अपनी वैल्यू कम होने की आशंका जता रहे हैं.

बता दें कि इससे पहले कन्हैया कुमार ने जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के नेता अशोक चौधरी से भी मुलाकात की थी. लेकिन कोई परिणाम नहीं निकला.

इसे भी पढ़ें: मेन रोड में वाइट लाइन के बाहर लगायी गयी गाड़ियों-दुकानों से वसूला 36 हजार का जुर्माना

कन्हैया ने बेगूसराय से लड़ा था लोकसभा चुनाव

जानकारी हो कि इस वर्ष फरवरी में हैदराबाद में सीपीआई की अहम बैठक हुई थी. इसमें कन्हैया कुमार द्वारा पटना में की गई मारपीट की घटना को लेकर निंदा प्रस्ताव पास किया गया था.

बैठक में पार्टी के 110 सदस्य मौजूद थे जिसमें तीन को छोड़कर बाकी सभी ने कन्हैया के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पास करने का समर्थन किया था. इस घटनाक्रम के बाद कन्हैया की जदयू नेता से मुलाकात को अहम माना जा रहा था.

बता दें कि कन्हैया बेगूसराय के रहने वाले हैं. उन्होंने 2019 में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के खिलाफ बेगूसराय से लोकसभा चुनाव लड़ा था.

इसे भी पढ़ें :दिव्यायन सहित देश के 725 कृषि विज्ञान केंद्रों से जुड़े किसानों को प्रधानमंत्री के किया संबोधित, 35 नयी फसलें भी देश को सौंपी

Related Articles

Back to top button