न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कैमूरः दलित युवती की हत्या के विरोध में लोगों का हंगामा, थाना जलाने की कोशिश

आक्रोशित भीड़ ने फूंकी आधा दर्जन गाड़ियां

720

Kaimur: कैमूर में दो दिन पहले हुई एक दलित युवती की हत्या पर शुक्रवार को लोगों ने जमकर बवाल काटा. युवती का शव रखकर परिजनों और स्थानीय लोगों ने सड़क जाम किया, और गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया. बाद में मामले की जानकारी पर पहुंची पुलिस से भी ग्रामीणों की झड़प हुई. इस दौरान लोगों ने रामगढ़ थाने को जलाने का प्रयास किया. जमकर आगजनी की और पथराव किया. आक्रोशित भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस को फायरिंग भी करनी पड़ी. फिलहाल पुलिस इलाके में कैंप कर रही है. हालांकि, खबर लिखे जाने तक हालात काबू में नहीं थे.

क्या है मामला

दरअसल, दो दिन पहले दलित युवती गंभीर हालत में दो दिन पहले रेलवे ट्रैक पर मिली थी, जिसके बाद परिजन उसे इलाज के लिए बनारस ले गए, जहां उसकी मौत हो गई. परिजनों का कहना है कि युवती शशि लता सीएसपी में पैसे निकालने के लिए दस दिन से परेशान थी. लेकिन सीएसपी संचालक बार-बार नेट स्लो की बात करता था. बताया जा रहा है कि शशिलता ने संचालक को पुलिस में शिकायत करने की धमकी दी थी. बाद में संचालक ने पैसे देने की बात कही, लेकिन उसके बाद युवती अपने घर नहीं पहुंची. शशिलता जब घायल हालत में मिली थी तो उसके सिर पर चोट थी. और चाकू से भी हमला किया गया था.

भीड़ का हिंसक प्रदर्शन

अब परिजनों का आरोप है कि पुलिस मामले में सीएसपी संचालक के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रही है. हत्या के खिलाफ हो रहे विरोध-प्रदर्शन ने हिंसक रुप ले लिया और आक्रोशित भीड़ थाना जलाने को उतारु दिखी. गुस्साई भीड़ ने वहां खड़े लगभग आधा दर्जन वाहनों में भी आग लगा दी.

हंगामे में डीएसपी घायल

गुस्साए ग्रामीणों ने पीड़ित परिवार के लिए 25 लाख रुपये का मुआवजा. साथ ही परिवार के किसी एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग की है. साथ ही इस घटना को अंजाम देने वाले आरोपियों की गिरफ्तारी जल्द हो. इन सभी मांगों को लेकर ग्रामीणों ने थाने पर जमकर बवाल काटा.

आक्रोशित भीड़ को तीतर बीतर करने के लिए पुलिस ने हवाई फायरिंग भी की. वही स्थिति को नियंत्रित करने के लिए मौके पर आस-पास के 11 थानों का फोर्स बुलाया गया है. इस दौरान मोहनिया के डीएसपी रघुनाथ सिंह घायल हो गए. उन्हें फौरन इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया. इलाके में अब भी तनाव व्याप्त है. पुलिस पूरे इलाके में गश्त कर रही है.

इसे भी पढ़ेंः झारखंड के ऊर्जा विभाग ने घाटे में चल रहे पीएसयू में किया निवेश, 2092.21 करोड़ का नुकसान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: