DhanbadJharkhandRanchiTOP SLIDER

जस्टिस अष्टम उत्तम आनंद की मौत का मामला: मंत्री बन्ना गुप्ता ने 7 दिनों में धनबाद डीसी और एसपी से मांगी रिपोर्ट

Ranchi: धनबाद के जिला एवं सत्र न्यायाधीश अष्टम उत्तम आनंद की संदेहास्पद तरीके से मृत्यु को लेकर सवाल उठ रहे हैं. विभिन्न सामाजिक संस्थाओं और न्यायिक संस्थाओं ने इसे लेकर सवाल उठाए हैं. स्वास्थ्य मंत्री सह धनबाद जिले के प्रभारी मंत्री बन्ना गुप्ता ने इस पर संज्ञान लिया है. उन्होंने धनबाद डीसी और एसपी को मामले में एक उच्चस्तरीय जांच समिति बनाने को कहा है. साथ ही एक सप्ताह के अंदर जांच रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है.

अष्टम उत्तम आनंद के निधन पर शोक भी व्यक्त किया है. कहा है कि वे न्यायिक व्यवस्था के मजबूत स्तम्भ थे. उन्होंने पीड़ितों को इंसाफ दिलाने के लिए हमेशा कदम उठाया था.

इसे भी पढ़ें :Jharkhand : बीएड स्टूडेंट्स के लिए खुला ई-कल्याण पोर्टल, दो अगस्त से कर सकेंगे आवेदन

ram janam hospital
Catalyst IAS

क्या है मामला

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

गौरतलब है कि जिला एवं सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद का बुधवार को टेंपो से धक्का लगने से निधन हो गया. कहा जा रहा है कि अज्ञात वाहन के धक्के से उन्हें जानबूझकर मारा गया है. सूचना के मुताबिक वे रोज की तरह मॉर्निंग वॉक करने अपने आवास से गोल्फ ग्राउंड जा रहे थे. इसी दौरान रणधीर वर्मा चौक के आगे जज कॉलोनी मोड़ पर एक तीन पहिया वाहन ने उन्हें जोरदार टक्कर मार दी.

इसमें वे गंभीर रूप से घायल हो गये. इसके बाद तुरंत उन्हें ईलाज के लिये धनबाद के एसएनएमसीएच ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

सूचना पाकर धनबाद के प्रधान जिला न्यायधीश और मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी समेत जिले के तमाम न्यायिक पदाधिकारी भी एसएनएमसीएच पहुंचे.

इसे भी पढ़ें :पेयजल एवं स्वच्छता विभाग में इंजीनियरों का ट्रांसफर, सुनील कुमार और अनूप महतो बने टेक्निकल एडवाइजर

रंजय सिंह हत्याकांड की कर रहे थे सुनवाई

गौरतलब है कि जस्टिस उत्तम आनंद चर्चित रंजय हत्याकांड की सुनवाई कर रहे थे. रंजय सिंह धनबाद के बाहुबली नेता और झरिया के पूर्व विधायक संजीव सिंह के काफी करीबी माने जाते थे. कुछ दिन पूर्व ही उन्होंने शूटर अभिनव सिंह व अमन के करीबी रवि ठाकुर की जमानत याचिका खारिज कर दी थी.

इसे भी पढ़ें :Jharkhand: चार जिला परिवहन पदाधिकारियों का तबादला, दो को अतिरिक्त प्रभार

Related Articles

Back to top button