न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दो जूनियर डॉक्टरों पर हुए  हमले के विरोध में जूनियर डॉक्टरों ने ओपीडी का किया बहिष्कार

नआरएस मेडिकल कॉलेज कोलकाता के दो जूनियर डॉक्टरों पर हुए जानलेवा हमले के विरोध में पूरे देश के साथ झारखंड के जूनियर डॉक्टरों ने भी ओपीडी ठप कर दी है

37

Ranchi : एनआरएस मेडिकल कॉलेज कोलकाता के दो जूनियर डॉक्टरों पर हुए जानलेवा हमले के विरोध में पूरे देश के साथ झारखंड के जूनियर डॉक्टरों ने भी ओपीडी ठप कर दी है. राजधानी के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (रिम्स) में शुक्रवार को जूनियर डॉक्टरों ने ओपीडी में काम नहीं किया. उनकी जगह सीनियर डॉक्टर मरीजों का इलाज कर रहे हैं.

रिम्स के जूनियर डॉक्टर डॉ अजीत ने बताया कि हमने सिर्फ ओपीडी का बहिष्कार किया है. हमने वार्डों और इमरजेंसी में अपनी सेवा दी है. उन्होंने कहा कि डॉक्टरों की सुरक्षा के मद्देनजर आंदोलन करने को मजबूर हैं. लेकिन अबतक झारखंड सरकार ने सुध नहीं ली है.

इसे भी पढ़ेंः मरीज को रेफर करने वाले डॉक्टर को सर्विस फी का 10 प्रतिशत कमीशन देता है मेदांता अस्पताल

नुक्कड़ नाटक असॉल्ट ऑन डॉक्टर्स का आयोजन

SMILE

रिम्स के जूनियर डॉक्टरो ने प्रोटेस्ट के दौरान नुक्कड़ नाटक का भी आयोजन किया. नुक्कड़ नाटक का विषय असॉल्ट ऑन डॉक्टर्स था. नुक्कड़ के माध्यम से बताया कि कितनी मेहनत करने के बाद डॉक्टर बनते हैं. उन्होंने बताया कि रिम्स जैसे अस्पतालों में अधिकतर वैसे मरीज आते हैं,  जो लगभग अंतिम अवस्था में हो चुके रहते हैं. उनके मरने की संभावना अधिक होती है.

डाक्टरों ने निकाला प्रोटेस्ट मार्च

सुबह  नुक्कड़ नाटक के बाद शाम में रिम्स के जूनियर डाक्टर्स एसोसिएशन ने प्रोटेस्ट मार्च निकाला. एकदिवसीय प्रोटेस्ट के दौरान राज्य के यूजी और पीजी के लगभग 1500 डाक्टरों ने भाग लिया. पीजी डाक्टरों की संख्या 650 है. प्रोटेस्ट मार्च के दौरान रिम्स जूनियर डाक्टरों ने जमकर नारे लगाये.  जूनियर डाक्टर डा अजीत ने बताया कि रिम्स में डाक्टर संसाधनों  के अभाव में काम कर रहे हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: