न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

डिजिटल युग में दबाव में है न्यायिक प्रक्रिया: न्यायमूर्ति सीकरी

485

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट के दूसरे सीनियर जज, न्यायामूर्ति सीकरी ने कहा कि आज के डिजिटल युग में न्यायिक प्रक्रिया और जज दबाव में है. न्यायमूर्ति ए के सीकरी ने रविवार को कहा कि न्यायिक प्रक्रिया दबाव में है और किसी मामले पर सुनवाई शुरू होने से पहले ही लोग बहस करने लग जाते हैं कि इसका फैसला क्या आना चाहिए? इसका न्यायाधीशों पर प्रभाव पड़ता है.

mi banner add

न्यायमूर्ति सीकरी ने लॉएशिया के पहले सम्मेलन में ‘‘डिजिटल युग में प्रेस की स्वतंत्रता’’ विषय पर चर्चा को संबोधित करते हुए कहा कि प्रेस की स्वतंत्रता नागरिक और मानवाधिकार की रूप-रेखा और कसौटी को बदल रही है और मीडिया ट्रायल का मौजूदा रुझान उसकी एक मिसाल है.

दबाव में है न्यायिक प्रक्रिया

उन्होंने कहा, ‘‘मीडिया ट्रायल पहले भी होते थे. लेकिन आज जो हो रहा है वह यह कि जैसे की कोई मुद्दा बुलंद किया जाता है, एक याचिका दायर कर दी जाती है. इस (याचिका) पर सुनवाई शुरू होने से पहले ही लोग यह चर्चा शुरू कर देते हैं कि इसका फैसला क्या होना चाहिए. यह नहीं कि फैसला क्या ‘है’, (बल्कि) फैसला क्या होना चाहिए. और मेरा तजुर्बा है कि न्यायाधीश कैसे किसी मामले का फैसला करता है, इसका इस पर प्रभाव पड़ता है.’’

न्यायमूर्ति सीकरी ने ये भी कहा, ‘यह उच्चतम न्यायालय में ज्यादा नहीं है, क्योंकि जब तक वे उच्चतम न्यायालय में पहुंचते हैं. वे काफी परिपक्व हो जाते हैं और जानते हैं कि मीडिया में चाहे जो भी हो रहा है उन्हें कानून के आधार पर मामले का फैसला कैसे करना है. आज न्यायिक प्रक्रिया दबाव में है.’

Related Posts

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने पाकिस्तान के जेल में बंद कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगायी

अदालत के प्रमुख न्यायाधीश अब्दुलकावी अहमद यूसुफ मे फैसला पढ़कर सुनाया. 16 में से 15 जज, भारत के हक में थे.

‘अब न्यायाधीश को भी बदनाम किया जाता है’

उन्होंने कहा, ‘कुछ साल पहले यह धारणा थी कि चाहे उच्चतम न्यायालय हो, उच्च न्यायालय हों या कोई निचली अदालत, एक बार अदालत ने फैसला सुना दिया तो आपको फैसले की आलोचना करने का पूरा अधिकार है. अब जो न्यायाधीश फैसला सुनाते हैं, उनको भी बदनाम किया जाता है या उनके खिलाफ मानहानिकारक भाषण दिया जाता है.’

सम्मेलन को संबोधित करने वालों में शामिल अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल माधवी गोराडिया दीवान ने भी इसी तरह के विचार पेश किए. उन्होंने कहा कि खबर और फर्जी खबर, खबर और विचार, नागरिक और पत्रकार के बीच का फर्क धुंधला हो गया है. उन्होंने कहा कि एक चुनौती यह भी हो गई है कि वकील भी कार्यकर्ता बन गए हैं.

इसे भी पढ़ेंः कपिल सिब्बल ने अधिकारियों को चेताया, मोदी से वफादारी दिखाने की कोशिश न करें, हम आयेंगे तो…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: