Education & CareerJharkhandRanchi

जेटीयू : राज्यपाल की अनुमति बिना शुरू किया पीएचडी कोर्स, नामांकन भी लिया

विज्ञापन

Ranchi : झारखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी (जेटीयू) ने पीएचडी एंट्रेंस टेस्ट लेकर 22 स्टूडेंट्स का चयन अपने पीएचडी कोर्स के लिए किया. जबकि विवि की ओर से न तो राज्यपाल की अनुमति ली गयी, न ही बोर्ड ऑफ स्टडीज का गठन किया.

इसी मुद्दे को लेकर टेक्निकल छात्र संघ का एक प्रतिनिधिमंडल संघ अध्यक्ष बादल सिंह के नेतृत्व में झारखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी के कुलसचिव कुणाल कुमार से मिला.

प्रतिनिधिमंडल ने उनसे जानना चाहा कि पीएचडी प्रोग्राम के लिए राज्यपाल से स्वीकृति कब ली गयी. उसका आर्डिनेंस या एक्ट कब पास किया गया. इस पर कुलसचिव ने कहा कि हमलोगों ने यूजीसी की गाइड लाइन के हिसाब से प्रोग्राम बनाया है जिसकी सूचना राज्यपाल को दी गयी है. पर अभी कोई जबाब नहीं आया है.

advt

इसे भी पढ़ें – Yono ग्राहकों के लिए SBI का फेस्टिव ऑफर, होम और पर्सनल लोन पर नो प्रोसेसिंग फीस

वहीं प्रतिनिधिमंडल ने पूछा कि कोर्स वर्क कराने की प्रक्रिया क्या है एवं कोर्स कितने क्रेडिट का है. इसमें कुलसचिव ने विस्तार से बताने के बजाय इतना बताया कि कोर्स का पूरा सिस्टम तैयार किया गया है. साथ छात्रों के मंडल ने पूछा कि पीएचडी प्रोग्राम के लिए बोर्ड ऑफ स्टडी का गठन कब हुआ. इसपर उनका जवाब था कि अभी तक राज्य सरकार की तरफ से कोई राय विवि को नहीं दी गयी है.

गौरतलब है कि विवि में बिना कोई आरक्षण रोस्टर के ही कोर्स को शुरू किया गया है. पीएचडी एडमिशन टेस्ट लेकर कुल 22 छात्रों का सेलेक्शन हुआ जिसमें 12 छात्रों को बीआइटी सिंदरी एवं 10 छात्रों को निफ्ट हटिया में कोर्स वर्क एवं आगे के रिसर्च के लिए अलॉट किया गया है.

इस प्रतिनिधिमंडल में मुख्यरूप से संघ अध्यक्ष बादल सिंह, मुकेश यादव, बिट्टू और आदित्य मौजूद थे.

adv

इसे भी पढ़ें – Palamu : पीएमसीएच के 500 मीटर के दायरे में चल रहे 7 निजी क्लिनिक सील, पूछताछ के लिए 6 को लिया गया हिरासत में 

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button