Education & CareerRanchi

#JTET: अब सात साल मान्य होगा परीक्षा के बाद मिलनेवाला सर्टिफिकेट, क्षेत्रीय भाषा हुई अहम

विज्ञापन

Ranchi: शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत कक्षा एक से आठ तक के स्कूलों में शिक्षक बनने के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा पास होना जरूरी होता है. यह परीक्षा प्रत्येक राज्य में आयोजित की जाती है.

झारखंड में अब तक केवल दो बार ही शिक्षक पात्रता परीक्षा (जेटेट) आयोजित की गयी है. पहली परीक्षा 2013 में और दूसरी परीक्षा 2016 में ली गयी.

इसे भी पढ़ेंःNews Wing Impact: जिस डिफेंस लैंड पर माफिया ने किया था कब्जा, प्रशासन ने रद्द किया उसका म्यूटेशन

advt

इसके बाद से परीक्षा नहीं हो पायी है. परीक्षा नियमित हो इसके लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा व नियुक्ति नियमावली में संशोधन कर नयी नियमावली तैयार की गयी है.

इस नियमावली को झारखंड कैबिनेट से मंजूरी मिल गयी है. इस नियमावली में कई नयी बातें हैं. गौरतलब हो कि झारखंड में 2012 में पहली बार शिक्षक पात्रता परीक्षा की नियमावली बनी थी.

क्षेत्रीय भाषा हुई अहम, पास होना जरूरी

नयी नियमावली के अनुसार, शिक्षक पात्रता परीक्षा में क्षेत्रीय भाषा की अहमियत बढ़ी है. अब इन विषयों में पास होना जरूरी है. क्षेत्रीय भाषाओं में पास करने के बाद ही दूसरे विषय की कॉपी जांच की जायेगी.

जानकारी के मुताबिक, छठी से आठवीं की टेट में उम्मीदवार ने जिस विषय में स्नातक किया है, परीक्षा में वही उसका मुख्य विषय होगा. हिंदी व अंग्रेजी के लिए इसी विषय से संबंधित प्रश्नों को हल करने होंगे.

adv

नयी नियमावली के अनुसार, क्षेत्रीय व जनजातीय भाषा पास करने वाले उम्मीदवारों का ही विज्ञान, सामाजिक विज्ञान, भाषा या फिर पहली से पांचवीं के टेट की कॉपियां जांची जायेगी.

क्षेत्रीय भाषा में सामान्य वर्ग के लिए 40 प्रतिशत और आरक्षित वर्ग में 35 प्रतिशत क्वालीफाइंग मार्क्स रखे गये हैं.

इसे भी पढ़ेंःहाई अलर्ट पर देश की राजधानी #Delhi, हमला करने की फिराक में घुसे 3-4 आतंकी

स्नातक के विषय से होंगे सर्वाधिक प्रश्न

शिक्षक पात्रता परीक्षा (टेट) में अब इंटरमीटिएट और स्नातक स्तर के प्रश्न होंगे. कक्षा एक से पांच तक की परीक्षा में प्रश्न इंटर स्तरीय और छठी से आठवीं के लिए इंटर की जगह स्नातक स्तरीय प्रश्न पूछे जायेंगे.

जिस विषय में उम्मीदवार ने स्नातक किया होगा, उससे संबंधित प्रश्न ज्यादा पूछे जायेंगे. अभ्यर्थियों को 250 अंकों के प्रश्न पूछे जायेंगे.

कक्षा छह से आठ में साइंस व सोशल साइंस में पांच खंडों में प्रश्न होंगे. उम्मीदवारों को पांच में से तीन खंडों के प्रश्न अनिवार्य रूप से देने होंगे.

वहीं साइंस ग्रुप में फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ्स, बायोलॉजी, जूलॉजी व बॉटनी से प्रश्न पूछे जायेंगे. सोशल साइंस ग्रुप में इतिहास, अर्थशास्त्र, नागरिक शास्त्र, समाजशास्त्र और भूगोल से प्रश्न होंगे.

अब सात साल तक मान्य होगा सर्टिफिकेट

अब तक जितनी भी शिक्षक पात्रता परीक्षा राज्य में हुई है. उसके बाद जारी सर्टिफिकेट की मान्यता पांच वर्ष ही रही है. झारखंड में शिक्षक नियुक्ति की परीक्षा नियमित नहीं होती है. इस वजह से जब नियुक्ति प्रक्रिया शुरू हुई तब तक शिक्षक पात्रता का समय पूरा हो जाता है.

ऐसे में उम्मीदवारों को आवेदन करने में परेशानी में होती है. उम्मीदवारों को यह समस्या न हो इसके लिए इसमें संशोधन करते हुए अब शिक्षक पात्रता परीक्षा के बाद मिलने वाला सर्टिफिकेट पांच साल की जगह सात साल मान्य होगा.

इसे भी पढ़ेंः#BiharFlood: राज्य में ऑरेंज अलर्ट जारी, 73 की मौत, जनजीवन प्रभावित

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button