न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पंचायत सचिवालय परीक्षा के लिए नयी तिथि जारी नहीं कर रहा जेएसएससी, छात्र  भूख हड़ताल पर बैठे

स्किल जांच परीक्षा थी 6 से 10 जून तक, 2017 में आवेदन भरायें गये थे, आक्रोशित छात्र दिन भर आयोग कार्यालय के समक्ष भूख हड़ताल पर  बैठे रहे

543

Ranchi :  झारखंड कर्मचारी चयन आयोग की ओर से साल 2017 में निकाली गयी पंचायत सचिवालय की नियुक्तियां अब तक पूरी नहीं हो पायी है. जिसके लिए आवेदन साल 2017 में भराये गये. इसकी परीक्षा साल 2018 में जनवरी में ली गयी. परीक्षा का रिजल्ट फरवरी 2019 में जारी किया गया. इस परीक्षा में उतीर्ण छात्रों के चयन के लिए आयोग की ओर से एक अन्य स्किल जांच परीक्षा होनी थी. जो सिर्फ टाइपिंग और कंप्यूटर स्किल की परीक्षा थी. इसके लिए आयोग की ओर से पहले 15 मार्च के आस पास परीक्षा की तारीख निकालने की बात की गयी थी.

mi banner add

लेकिन आचार संहिता लागू होने के बाद परीक्षा की तारीख इस दौरान नहीं निकाली गयी. इसके बाद फिर से आयोग की ओर से चुनाव के बाद 6 से 10 जून तक परीक्षा लेने की अधिसूचना निकाली गयी. जिसमें सिर्फ 6 जून को परीक्षा होने के बाद परीक्षा स्थगित कर दी गयी. इस मामले को लेकर मंगलवार को परीक्षार्थियों ने आयोग कार्यायल के समक्ष भूख हड़ताल की. वे दिन भर कड़ी धूप में परीक्षा की तिथि जारी करने की मांग करते दिखे.

6 जून के बाद से परीक्षा की कोई तिथि नहीं निकाली गयी

आयोग की ओर से निकाली गयी अधिसूचना में 6 से 10 जून तक क्वालीफाइंग परीक्षा होनी थी. जो कंप्यूटर स्क्लि और टाइपिंग टेस्ट की थी. लेकिन एक दिन या सिर्फ 6 जून को परीक्षा लेने के बाद आयोग की ओर से परीक्षा स्थगित कर दी गयी. जिसकी अब तक तिथि नहीं निकाली गयी. भूख हड़ताल में बैठे छात्रों ने बताया कि आयोग की ओर से एक दिन क्वालीफाइंग परीक्षा लेने के बाद अचानक से परीक्षा स्थगित करना. युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़.  पिछले कुछ सालों से लगातार आयोग की ओर से परीक्षाएं स्थगित कर दी जा रही है. भूख हडताल में बैठे कृपाल ने जानकारी दी कि पहले भी आयोग के अध्यक्ष से परीक्षा लेने की मांग की गयी है लेकिन उन्होंने इस पर कोई कार्रवाई नहीं की.

स्किल जांच परीक्षा में नहीं थी सही सिस्टम

इन परीक्षार्थियों से जानकारी मिली की छह जून को आयोजित स्किल जांच परीक्षा का कार्य भार आयोग की ओर से चेन्नई की किसी कंपनी को दी गयी थी. परीक्षार्थी जब परीक्षा देने पहुंचे तो बहुत से केंद्रों में कंप्यूटन में परीक्षा देने के लिए आनलाइन सेटिंग नहीं थी. जबकि परीक्षा आनलाइन होनी थी. ऐसे में इन परीक्षार्थियों की आफलाइन परीक्षा ली गयी. इस परीक्षा में कंप्यूटर से मेल करना भी परीक्षा का ही एक भाग था.

जिसके लिए 25 अंक थे. लेकिन जिस कंपनी ने परीक्षा आयोजित की उन्हें ये मालूम ही नही था कि परीक्षा का मुख्य हिस्सा मेल सेंड करना है. परीक्षार्थियों ने बताया कि परीक्षा में बहुत सी त्रुटियां थी, जिसके कारण परीक्षा स्थगित की गयी. जिसकी अब तक तिथि नहीं निकली. छात्रों ने बताया कि अध्यक्ष से इस संबध में बात हुई जिसमें उन्होंने जल्द निर्णय लेने की बात की.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: