JharkhandKhas-KhabarLead NewsRanchiTOP SLIDER

JSSC CGL : छह साल में तीन विज्ञापन, हर बार लिया अलग एप्लीकेशन फीस, अब युवा पूछ रहे क्या हमारे पैसे JSSC लौटाएगी..?

Rahul Guru

Ranchi : झारखंड कर्मचारी चयन आयोग (JSSC)की ओर से स्नातक स्तरीय संयुक्त परीक्षा (CGL) के माध्यम से बहाली के लिए निकाला गया विज्ञापन किसी मजेदार कहानी से कम नहीं है. दरअसल दो दिन पहले जो विज्ञापन निकाला गया, वो विज्ञापन तीसरी बार जारी किया गया है. पहली बार साल 2015 में, दूसरी बार 13.09.2019 को और अब तीसरी बार 23.12.2021 को स्नातक स्तरीय संयुक्त परीक्षा का विज्ञापन निकाला गया.

इस नियुक्ति की मजेदार बात यह है कि झारखंड की अलग-अलग सरकार ने तीनों बार राज्य के बेरोजगारों से आवेदन लिया गया. परीक्षा में शामिल होने के लिए फीस लिया गया. हर बार के आवेदन के साथ एप्लीकेशन फीस भी अलग-अलग ली गयी. पहली बार साल 2015 में 460 रुपये, दूसरी बार साल 2019 में 1000 रुपये और इस साल तीसरी बार एप्लीकेशन फीस के तौर पर 100 रुपये लिया जा रहा है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

क्या हमारे पैसे JSSC लौटाएगी..?

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

तीसरी बार एप्लीकेशन भरने जा रहे बेरोजगार युवाओं की फौज सरकार से सवाल पूछ रही है कि क्या पहले से लिया हुआ पैसा आयोग हमें वापस करेगी. पिछली बार के आवेदन में इसी परीक्षा में शामिल होने के लिए उम्मीदवारों से प्रति उम्मीदवार एक हजार रुपये लिए गये. वहीं दो दिन पहले जारी विज्ञापन में एप्लीकेशन फीस 100 रुपये कर दिया गया है. ऐसे में जिन युवाओं ने पिछली बार के आवेदन के पैसे दे दिए हैं उनका बाकि बचा 900 रुपये कौन लौटाएगा. इसे लेकर न तो झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने अब तक कुछ कहा है और न ही राज्य सरकार की ओर से कोई जानकरी मिली है. पहले ही आवेदन कर चुके युवाओं में इसे लेकर काफी उलझन है. साथ ही इस बात की चिंता है कि एक तो हम बेरोजगारी की मार झेल रहे है वहीं एप्लीकेशन फीस के पैसे भी जा चुके हैं.

अब जानिये JSSC CGL परीक्षा की पूरी कहानी

संयुक्त स्नातक स्तरीय परीक्षा – 2015

झारखंड कर्मचारी चयन आयोग की ओर से पहली बार साल 2015 में विज्ञापन जारी किया गया था. इस विज्ञापन के लिए एप्लीकेशन 15 मार्च 2016 तक लिए गये. वहीं इस विज्ञापन की प्रारंभिक परीक्षा 21 अगस्त 2016 में ली गयी. इस प्रारंभिक परीक्षा का परिणाम 25 अक्टूबर 2016 को जारी किया.  इस संयुक्त स्नातक स्तरीय परीक्षा – 2015 में तकनीकी और गैर तकनीकी दोनों तरह के पद थे. कुल रिक्त पदों की संख्या 1060 थी. मामला न्यायालय में जाने के बाद इस नियुक्ति परीक्षा को रद्द कर दिया गया.

ऐसी थी रिक्तियों की संख्या

गैर तकनीकी योग्यता वाले रिक्त पदों की संख्या

प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी: 122, बैकलॉग-14

प्रखंड कल्याण पदाधिकारी: 139, बैकलॉग-00

सहकारिता प्रसार पदाधिकारी: 118, बैकलॉग- 25

सचिवालय सहायक: 104, बैकलॉग-00

अंचल निरीक्षक-सह-कानूनगो: 108, बैकलॉग-00

श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी: 34, बैकलॉग-00

कुल: 623, बैकलॉग में कुल-39

तकनीकी योग्यता वाले पद

प्रखंड कृषि पदाधिकारी: 194, बैकलॉग-28

सहायक अनुसंधान पदाधिकारी: 08, बैकलॉग-00

पौधा संरक्षण निरीक्षक: 20, बैकलॉग-00

सांख्यिकी सहायक: 18, बैकलॉग-01

वरीयक अंकेक्षक: 110, बैकलॉग-02

उद्योग विस्तार पदाधिकारी: 48, बैकलॉग-00

मत्स प्रसार पदाधिकारी: 30, बैकलॉग-00

भूतात्विक विश्लेषक: 29, बैकलॉग-00

कुल: 457, बैकलॉग में कुल-31

संयुक्त स्नातक स्तरीय परीक्षा – 2019

झारखंड कर्मचारी चयन आयोग की ओर से दूसरी बार 13 सितंबर 2019 को इसी नियुक्ति परीक्षा का विज्ञापन जारी किया गया. इस विज्ञापन के जरिये छह विभिन्न पदों में नियुक्ति होनी थी. कुल रिक्त पदों की संख्या 1260 थी. इस विज्ञापन के जरिये सहायक प्रशाखा पदाधिकारी के 362, प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी के 223, प्रखंड कल्याण पदाधिकारी के 139, अंचल निरीक्षक/कानूनगो के 170, सहकारिता प्रसार पदाधिकारी के 241, और प्लानिंग असिस्टेंट के 05 पद थे. इसमें एक बार फिर संसोधन करते हुए 16 सितंबर को सूचना जारी की गयी. अब इसमें प्रखंड पंचायत राज पदाधिकारी के 120 पद को जोड़ दिया गया. इस विज्ञापन के लिए एप्लीकेशन की प्रक्रिया पूरी ही हुई थी कि नियमावली में संसोधन होने की वजह से इसे दूसरी बार रद्द कर दिया गया. दूसरी बार के विज्ञापन में कुल पदों की संख्या 1260 थी.

संयुक्त स्नातक स्तरीय परीक्षा – 2021

तीसरी बार 23 दिसंबर 2021 झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने संयुक्त स्नातक स्तरीय परीक्षा का विज्ञापन जारी किया. 15 जनवरी से आवेदन लिए जायेंगे. लेकिन तीसरी बार जो विज्ञापन जारी हुआ है इसमें रिक्त पद की संख्या महज 956 है. इसमें सहायक प्रशाखा पदाधिकारी के 384, प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी के 245 और कनीय सचिवालय सहायक के 322 पद हैं. पहले और दूसरे विज्ञापन से तीसरे विज्ञापन में रिक्त पदों की संख्या में तीन गुना की कमी हुई है.

Related Articles

Back to top button