RanchiTop Story

हजारीबाग, गिरिडीह और गोड्डा के लिये छह सौ सोलर पंप का JREDA ने दिया डिस्पैच ऑर्डर

विज्ञापन

तीन जिलों में पहले चरण में सोलेक्स नामक एजेंसी लाभुकों के यहां करेंगी पंप इंस्टॉल

टू एचपी के लिये पांच हजार, थ्री एचपी के लिये सात हजार और पांच एचपी के लिये दस हजार की राशि तय

Ranchi: जेरेडा की ओर से कुसुम योजना (कृषक ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाअभियान योजना) के तहत सोलर पंप लगाये जाने है. पहले फेज में योजना के तहत तीन जिलों में सोलर पंप लगाये जायेंगे. यह सोलर पंप किसानों को दिये जायेंगे. जिसमें पहले फेज में हजारीबाग, गिरिडीह और गोड्डा है.

advt

इन जिलों के लिये सोलेक्स नामक एजेंसी को जेरेडा ने वर्कऑर्डर दिया है. जेरेडा की ओर से सबसे पहले इन्हीं जिलों के किसानों को सोलर पंप दिया जायेगा. लगभग 18 जिलों के किसानों को सोलर पंप दिया जाना है. योजना अलग-अलग चरणों में पूरी की जायेगी. जिसके पहले चरण की तैयारी कर ली गयी है.

इसे भी पढ़ेंः क्या आप जानते हैं सैलरी पाने  वाले 1.89 करोड़ मिडिल क्लास बेरोजगार हो गये हैं

बता दें यह योजना केंद्र सरकार की है. जिसके तहत साल 2019 में ही जेरेडा को लगभग दस हजार सोलर पंप लगाने का लक्ष्य दिया गया. जिला स्तरीय अधिकारियों से समन्वय नहीं होने के कारण जेरेडा की ओर से इस काम को पूरा नहीं किया गया.

तीन जिलों में छह सौ सोलर पंप सेट के लिये ऑर्डर

सोलेक्स नामक एजेंसी को लगभग छह सौ सोलर पंप सेट का डिस्पैच ऑर्डर दिया गया है. योजना के तहत इन तीन जिलों ने शुरू से योजना में रूचि दिखायी. साल 2019 में ही इन तीनों जिलों ने सूची भेज दी थी. हालांकि लाभुकों की स्पष्ट जानकारी नहीं होने के कारण तब काम शुरू नहीं किया गया.

adv

अब इन तीन जिलों के लिये सूची तैयार कर ली गयी है. योजना के तहत राज्य सरकार की ओर से किसानों को सोलर पंप दिये जाने हैं. जिसमें केंद्र और राज्य सरकार का अंशदान है. वहीं दस हजार में से दो हजार सोलर पंप बगैर सब्सिडी के दिये जायेंगे. सोलर पंप की क्षमता बोरिंग या कुएं के अनुसार होगी. जिसमें टू एचपी, थ्री एचपी और पांच एचपी तक के सोलर पंप लाभुकों को दिये जायेंगे.

40 करोड़ की है कुल योजना

कुसुम योजना तहत अनुदान में दिये जाने वाले सोलर पंप में 40 करोड़ खर्च किये जाने हैं. राशि की स्वीकृति ऊर्जा विभाग की ओर से 2019 में ही दे दी गयी थी. योजना के लिये केंद्र सरकार की ओर से सोलेक्स एजेंसी का चयन किया गया है. टेंडर के मुताबिक, लाभुकों को सोलर पंप टू एचपी के लिये पांच हजार, थ्री एचपी के लिये सात हजार और पांच एचपी के लिये दस हजार में पंप दिये जायेंगे. एजेंसी ही लाभुकों के लिये पंप इंस्टॉल करेगी. ऐसे में पंप लाभुकों तक पहुंचाने से लेकर इंस्टॉलेशन तक का खर्च सरकार वहन करेगी.

इसे भी पढ़ेंः सुशील गुप्ता का आनंद ज्वेलर्सः क्या 7 साल बाद खुल पायेगा राज्य की सबसे बड़ी 12.25 करोड़ के गहनों की चोरी का रहस्य

अलग-अलग जिलों में लगेंगे 4657 सोलर पंप 

जेरेडा की ओर से अब तक 4657 लाभुकों को सोलर पंप दिये जाने का निर्णय लिया गया है. हालांकि, जिला अधिकारियों की ओर से लाभुकों की सूची उपलब्ध होने के बाद ही इस पर अन्य जिलों के लाभुकों को सोलर पंप दिये जायेंगे. फिलहाल जेरेडा की ओर से तीन जिलों का चयन किया गया है. जिसमें-

जिला लाभुकों की संख्या
गुमला 175
पश्चिमी सिंहभूम 276
देवघर 316
खूंटी 136
चतरा 9
दुमका 350
गोड्डा 256
पाकुड़ 250
साहेबगंज 294
जामताड़ा 350
गिरिडीह 536
बोकारो 350
धनबाद 183
लोहरदगा 150
सरायकेला खरसांवा 250
लातेहार 76
पूर्वी सिंहभूम 300
गढ़वा 400

इसे भी पढ़ेंः CoronaUpdate: देश में 37 लाख के करीब संक्रमित, एक दिन में कोविड-19 के 69,921 नए मामले

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button