Education & CareerJharkhandRanchi

जेपीएससी छठी सिविल सेवा परीक्षा, चार महीने बाद भी नहीं शुरू हो सकी कापियों की जांच

Ranchi : जेपीएससी छठी सिविल सेवा मुख्य परीक्षा के चार महीने बीत जाने के बाद भी काँपियों की जांच शुरु नहीं हो सकी है. छठी सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा में कुल 27 हजार 500 से अधिक परीक्षार्थियों ने भाग लिया था. 28 जनवरी से 1 फरवरी तक जेपीएससी की मुख्य परीक्षा ली गयी थी. एक परीक्षाथी को कुल 6 विषयों की परीक्षा देनी थी. उस हिसाब से जेपीएससी की मुख्य परीक्षा में करीब डेढ़ लाख से अधिक कापियो जांची जानी है. जेपीएससी की पीटी परीक्षा में 34,634 परीक्षार्थियों को सफल घोषित किया गया था, पर 27 हजार 500 परीक्षार्थियों ने ही मेंस की परीक्षा में भाग लेने के लिए आवेदन किया था.

इसे भी पढ़ें – NEWS WING IMPACT :  भूख से मरी संतोषी की मां कोईली को मिला उज्ज्वला योजना का लाभ

जांचनी होंगी डेढ़ लाख से अधिक कापियां

जेपीएससी की मुख्य परीक्षा में एक छात्र ने कुल छह विषयों की परीक्षा दी थी. इस हिसाब से जेपीएससी को मुख्य परीक्षा की कुल 1 लाख 62हजार से अधिक कापियां जांचनी पड़ेंगी. इसका मतलब ये कि कापियों को जांचने में कम से कम छह महीने लग सकते हैं. अगर कापियों को जांचने में छह महीने भी कम से कम लगे तो रघुवर दास की सरकार इस टर्म में एक भी जेपीएससी पूरी नहीं कर सकेगी.

इसे भी पढ़ें – लोकसभा चुनाव के दौरान दूसरे राज्यों में प्रतिनियुक्त पुलिस पदाधिकारियों और कर्मियों को दिया गया 8…

34634  हुए थे पास,  27500 ने ही दी परीक्षा

जेपीएससी ने छठी सिविल सेवा परीक्षा में कुल 34634 अभ्यर्थिंयों को पास घोषित किया था, पर मुख्य परीक्षा के लिए 27500 अभ्यर्थियों ने ही आवेदन किया था. जेपीएससी मुख्य परीक्षा से पहले तीन बार पीटी परीक्षा के परिणाम जारी किये गये थे. 23 फरवरी 2017 और 11 अगस्त 2017 को जारी किया जा चुका था, जिसे बाद में हाई कोर्ट के आदेश के बाद रद्द कर दिया गया था.

कुल पद : 326

झारखंड प्रशासनिक सेवा : 143

झारखंड वित्त सेवा : 104

झारखंड शिक्षा सेवा : 36

झारखंड सहकारिता सेवा : 09

झारखंड सामाजिक सुरक्षा सेवा : 03

झारखंड सूचना सेवा : 07

झारखंड पुलिस सेवा : 06

झारखंड योजना सेवा : 18

इसे भी पढ़ें – सीएम का दावाः साढ़े चार साल में 30 लाख घरों में बिजली पहुंचायी, हकीकतः कनेक्शन तो जुड़ा, देने को बिजली नहीं

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: