न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#JPSC छठी सिविल सेवा का मामला : ढाई घंटे चली बहस, कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित

6,448

Ranchi: छठी जेपीएससी को लेकर सोमवार को हाइकोर्ट में सुनवाई हुई. ढाई घंटे की लंबी बहस के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया गया है. जेपीएससी ने कोर्ट में हवाला दिया कि हमने इंटरव्यू की तारीख तय कर दी है. इस पर कोर्ट ने सवाल किया कि कॉपी कितनी चेक हुई है, जवाब देते हुए जेपीएससी के पक्ष ने कहा- अभी तक 50 प्रतिशत कॉपी चेक हो गयी है.

वहीं छात्रों के पक्ष ने कोर्ट में अपना पक्ष रखते हुए बताया कि क्यों नहीं रिजल्ट को बदला जा सकता था. कोर्ट में यह बात पहले ही आ चुकी है कि जिस छत्तर सिंह फैसले का हवाला देकर 34 हजार रिजल्ट जारी किया गया वो इस फैसले को सर्पोट ही नहीं करता.

इसे भी पढ़ें – मीडिया-अखबार को खरीद लिया हूं…

परीक्षा की चयन प्रक्रिया एलिमिनेशन से शुरू होती है

छात्र पक्ष ने अपनी दलील में कहा कि किसी भी परीक्षा की प्रक्रिया एलिमिनेशन से शुरू होती है. छात्रों की छंटनी प्रारंभिक स्तर से होती है. पर सरकार ने फैसला लेकर 34000 छात्रों को मेंस परीक्षा के लिए योग्य करार दे दिया. उन्होंने अपनी दलील में यह भी कहा कि परीक्षा से पहले सील कैसे खुले थे. 2016 के प्रश्न पत्रों से परीक्षा ली गयी.

hotlips top

नोटिफिकेशन के विपरीत जाकर 15 गुणा के बजाय 104 गुणा रिजल्ट जारी कर दिया गया है. हालांकि फैसला अब सुरक्षित रख लिया गया है. उम्मीद है कि सही आयेगा.

इसे भी पढ़ें –  फारूक अब्दुल्ला पीएसए के तहत हिरासत में, SC में 8 याचिकाओं पर सुनवाई, #CJI ने कहा, जरूरत पड़ी तो वे खुद श्रीनगर जायेंगे

छात्रों को उम्मीद फैसला उनके पक्ष में आयेगा

जेपीएससी के खिलाफ केस लड़ रहे छात्रों की तरफ से अनिल पन्ना ने बताया कि दलीलों को सुनने के बाद हम यह लगभग कह सकते हैं कि फैसला हमारे पक्ष में आयेगा. उन्होंने बताया कि हमारी दलीलों से जज साहब काफी संतुष्ट थे. उन्होंने कहा कि हमारी बातों को ध्यान से सुना है और काफी संतुष्ट दिखे हैं. उन्होंने बताया कि हमें उम्मीद है कि फैसला छात्रों के पक्ष में आयेगा.

इसे भी पढ़ें – मुख्यमंत्री का विपक्ष पर मर्यादाहीन प्रहार उनकी और भाजपा की बौखलाहट ही जाहिर कर रहा है

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like