न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भविष्य को लेकर संशय में छात्र, जेपीएससी और जेएसएससी जारी नहीं करते हैं कैलेंडर

324

Ranchi: सरकारी नौकरी पाने के लिए झारखंड और बिहार जैसे राज्यों के लोग बड़े सपने संजो कर रखते हैं. पर वही सपना उनके जीवन का सबसे बड़ा काल हो गया है. राज्य की सरकारी सेवा में नियुक्त करनेवाले दो संस्थान जेपीएससी और जेएसएससी सही से काम नहीं कर रहे हैं.

छठी JPSC का मामला HC में है लंबित लेकिन जारी हो गयी इंटरव्यू की तारीख, मामले पर दें अपनी राय

इन दोनों संस्थानों से राज्य के युवा उम्मीद छोड़ ही चुके हैं. पिछले कई सालों से जेपीएससी और जेएसएससी ने अपना सालाना परीक्षा कैलेंडर जारी नहीं किया है. कैलेंडर जारी नहीं होने से छात्रों में संशय की स्थिति बनी रहती है.

इसे भी पढ़ें – #JPSC की कार्यशैली पर लगातार प्रतिक्रिया दे रहे हैं छात्र, पढ़ें-क्या कहा छात्रों ने…. (छात्रों की प्रतिक्रिया का अपडेट हर घंटे)

कैलेंडर जारी नहीं होने से छात्रों को परीक्षा का समय और तिथि नहीं पता चलता. राज्य पुस्तकालय में तैयारी कर रहे छात्रों का कहना है कि सरकार किसी परीक्षा को तीन महीने में ही पूरा कर लेती है, तो कोई परीक्षा तीन से चार साल में भी पूरी नहीं हो पाती. दारोगा की परीक्षा को छोड़ कर आयोग ने एक भी परीक्षा सही समय पर नहीं ली है.

इसे भी पढ़ें – घर-घर रघुवर का नारा नहीं, घर-घर भाजपा, घर-घर कमल का नारा देकर सरयू राय ने शुरू किया जनसंपर्क अभियान

सिर्फ तीन महीने का जारी हुआ कैलेंडर, जेपीएससी इंटरव्यू पर विवाद

जेपीएससी भले कई सालों से परीक्षा कैलेंडर जारी नहीं किया हो, पर तीन महीने के लिए परीक्षा कैलेंडर जारी किया है. जिसमें जेपीएससी छठी सिविल सेवा परीक्षा का इंटरव्यू की भी तारीख तय कर दी है.

यह विवादों में आ गया है. इसके अलावा जेपीएससी असिस्टेंट इंजीनियर 2016 बैकलॉग के लिए भी परीक्षा का आयोजन किया जायेगा. यह परीक्षा कई चरण में ली जायेगी.

मतलब इसकी अगली परीक्षा कब होगी यह कोई नहीं जानता. तैयारी कर रहे छात्रों की मानें तो उन्हें यह भरोसा ही नहीं कि यह परीक्षा हो ही जायेगी.

जेएसएससी में कैलेंडर तो है पर कोई तिथि निर्धारित नहीं है

जेएसएससी के ऑफिसियल वेबसाइट पर कैलेंडर के लिए कॉलम बना रखा है. पर आयोग कैलेंडर ही जारी नहीं करता. कैलेंडर में कोई तारीख तय नहीं है. जेएसएससी ने सालाना आयोजित किये जाने वाले सीजीएल को भी चार साल से आयोजित नहीं किया है.

जेएसएससी हाई स्कूल शिक्षक को तीन सालों के बाद भी पूरा नहीं कर सका है. अब भी जिलों में कई विषयों के शिक्षकों की बहाली प्रक्रिया चल ही रही है.

केंद्र की नियुक्तियों पर अधिक फोकस कर रहे हैं राज्य के छात्र

राज्य सरकार के नियुक्ति करनेवाले संस्थान और सरकार की नीति के कारण सरकारी नौकरी की चाह रखनेवाले छात्र परेशान हैं. वे अब राज्य सरकार की नौकरी के मोह से निकल रहे हैं और केंद्र की नौकरी पर अधिक फोकस कर रहे हैं.

केंद्र के यूपीएससी और एसएससी द्वारा आयोजित की जानेवाली परीक्षाओं को लेकर वे आश्वस्त रहते हैं. केंद्र की यह दोनों संस्थाएं अपने तय समय पर परीक्षा का आयोजन कराती हैं.

इसे भी पढ़ें – बीजेपी में सीटिंग विधायकों का टिकट कटने की आशंकाओं के बीच दावेदार शीर्ष नेताओं के आगे दंडवत

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है कि हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें. आप हर दिन 10 रूपये से लेकर अधिकतम मासिक 5000 रूपये तक की मदद कर सकते है.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें. –
%d bloggers like this: