National

#Journalist आरफा खानम शेरवानी, रुक्मणी एस और रोहिणी मोहन चमेली देवी जैन पुरस्कार से सम्मानित

NewDelhi : द वायर की वरिष्ठ संपादक आरफा खानम शेरवानी, बेंगलुरू की स्वतंत्र पत्रकार रोहिणी मोहन और चेन्नई की स्वतंत्र डेटा पत्रकार रुक्मणी एस को वर्ष 2019 की सर्वश्रेष्ठ महिला पत्रकार घोषित किया गया है. इन तीनों के प्रतिष्ठित चमेली देवी जैन पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. वर्ष 2019 की सर्वश्रेष्ठ महिला पत्रकार मानते हुए तीनों को संयुक्त रूप से यह सम्मान दिया गया है.

इसे भी पढ़ें :  ग्राहकों को नहीं मिलेगा कच्चे तेल की गिरी कीमतों का लाभ, खजाना भरने के लिए सरकार ने बढ़ा दिया है टैक्स

पूरे भारत से  40 प्रविष्टियां भेजी गयी थी

यह वार्षिक पुरस्कार सामाजिक चिंता, समर्पण, साहस और संवेदना रखने वाली महिला पत्रकारों को सम्मानित करने के लिए दिया जाता है. इसके लिए पिछले वर्ष पूरे भारत से प्रिंट, बॉडकास्ट और ऑनलाइन मीडिया का प्रतिनिधित्व करने वाली 40 प्रविष्टियां भेजी गयी थी. ज्यादातर प्रविष्टियां अंग्रेजी से थी लेकिन हिंदी, मलयालम, ओडिया और तेलुगू का भी पर्याप्त अनुपात था.

तीन सदस्यों की जूरी ने पाया कि आरफा खानम शेरवानी ने कश्मीर और उत्तर प्रदेश में संघर्ष की स्थितियों के दौरान शानदार रिपोर्टिंग की. फील्ड रिपोर्ट और स्टूडियो में होने वाली चर्चाओं समेत अपने ऑनलाइन वीडियो के जरिए उन्होंने असाधारण साहस दिखाया और वंचितों की आवाज उठाई तथा अधिकारियों को जिम्मेदार ठहराया.

इस जूरी में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के राजीनीति शास्त्र की प्रोफेसर एमेरिटा एवं राजनीति शास्त्र वैज्ञानिक जोया हसन , एनडीटीवी के प्रबंध निदेशक श्रीनिवासन जैन और वरिष्ठ संपादक एवं लेखक मनोज मिट्टा शामिल थे.

इसे भी पढ़ें :   खुशखबरीः केंद्र सरकार के कर्मचारियों का महंगाई भत्ता 4 प्रतिशत बढ़ा

पुरस्कार 14 मार्च को दिये जाने थे, कोरोना वायरस के खतरे के चलते इसे टाल दिया गया

जूरी ने पाया कि असम में एनआरसी प्रक्रिया के दौरान रोहिणी मोहन की रिपोर्ताज ने खोजी पत्रकारिता में एक नया कीर्तिमान स्थापित किया. जूरी ने कहा कि भारत में डेटा पत्रकारिता के दायरे को और बढ़ाने के लिए रुक्मणी एस विशेष मान्यता पाने की हकदार हैं.

यह पुरस्कार 14 मार्च , 2020 को दिये जाने थे लेकिन कोरोना वायरस के खतरे के चलते इसे टाल दिया गया. जान लें कि सर्वश्रेष्ठ महिला पत्रकार की पहचान के लिए मीडिया फाउंडेशन ने 1980 में चमेली देवी जैन पुरस्कार की शुरुआत की थी. इसका नाम दिग्गज स्वतंत्रता सेनानी एवं समाज सुधारक चमेली देवी जैन के नाम पर रखा गया है.

इसे भी पढ़ें : #Corona संदिग्धों की लापरवाही से बढ़ रहा खतराः नागपुर में फरार 5 में 3 लौटे, बेंगलुरु से संक्रमित महिला पहुंची आगरा

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close