न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

केंद्र, मणिपुर सरकार की आलोचना के लिए पत्रकार को एक साल की जेल

24

Imphal : भाजपा नीत केंद्र एवं राज्य सरकार की, सोशल मीडिया पर आलोचना करने वाले एक पत्रकार को स्थानीय अदालत ने एक साल हिरासत में रखने की सजा सुनाई है. राज्य के गृह विभाग की ओर से जारी एक बयान में यह जानकारी दी गयी. इंफाल वेस्ट जिले के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने 14 दिसंबर को यह आदेश पारित किया. राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के परामर्श बोर्ड ने 11 दिसंबर को अपनी बैठक में पत्रकार किशोरचंद वांगखेम के खिलाफ लगे आरोपों की जांच की. बयान में बताया गया कि 13 दिसंबर को बोर्ड ने सिफारिश की कि वांगखेम को एनएसए के प्रावधानों के तहत हिरासत में लेने के पर्याप्त आधार हैं.

पत्रकार को एनएसए के तहत 26 नवंबर को हिरासत में लिया गया

मणिपुर की राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला ने एनएसए के तहत 12 महीने तक पत्रकार को हिरासत में रखने की परामर्श बोर्ड की अनुशंसाओं को स्वीकृति दे दी. इंफाल के 39 वर्षीय पत्रकार को एनएसए के तहत 26 नवंबर को हिरासत में लिया गया. रानी झांसी की जयंती मनाने के लिए केंद्र एवं मणिपुर की भाजपा नीत सरकार की आलोचना करते हुए कई वीडियो कथित तौर पर अपलोड करने के लिए उन्हें हिरासत में लिया गया. अधिकारियों ने इससे पहले कहा था कि वांगखेम एक स्थानीय टीवी चैनल में काम करते हैं और अंग्रेजी एवं मेती में 19 नवंबर को अपलोड किए गए वीडियो उनके आधिकारिक कार्य से संबद्ध नहीं थे.

सीएम को कहा था केंद्र की कठपुतली

वीडियो क्लिप में वांगखेम ने कथित तौर पर कहा था कि वह मणिपुर में झांसी की रानी की जयंती मनाए जाने से अचंभित एवं दुखी हैं क्योंकि उनके कार्यों का राज्य से कोई लेना-देना नहीं है. लेकिन केंद्र के कहने पर राज्य सरकार जयंती मना रही है. साथ ही उन्होंने मणिपुर के मुख्यमंत्री बीरेन सिंह को कथित तौर पर ‘कें‍द्र की कठपुतली’ और ‘हिंदुत्व की कठपुतली’ कहा था.

इसे भी पढे़ंं : पिता से मुलाकात कर बोले तेजप्रताप – झारखंड में तेजी से बढ़ रहा अपराध

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: