न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

केंद्र, मणिपुर सरकार की आलोचना के लिए पत्रकार को एक साल की जेल

42

Imphal : भाजपा नीत केंद्र एवं राज्य सरकार की, सोशल मीडिया पर आलोचना करने वाले एक पत्रकार को स्थानीय अदालत ने एक साल हिरासत में रखने की सजा सुनाई है. राज्य के गृह विभाग की ओर से जारी एक बयान में यह जानकारी दी गयी. इंफाल वेस्ट जिले के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने 14 दिसंबर को यह आदेश पारित किया. राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के परामर्श बोर्ड ने 11 दिसंबर को अपनी बैठक में पत्रकार किशोरचंद वांगखेम के खिलाफ लगे आरोपों की जांच की. बयान में बताया गया कि 13 दिसंबर को बोर्ड ने सिफारिश की कि वांगखेम को एनएसए के प्रावधानों के तहत हिरासत में लेने के पर्याप्त आधार हैं.

eidbanner

पत्रकार को एनएसए के तहत 26 नवंबर को हिरासत में लिया गया

मणिपुर की राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला ने एनएसए के तहत 12 महीने तक पत्रकार को हिरासत में रखने की परामर्श बोर्ड की अनुशंसाओं को स्वीकृति दे दी. इंफाल के 39 वर्षीय पत्रकार को एनएसए के तहत 26 नवंबर को हिरासत में लिया गया. रानी झांसी की जयंती मनाने के लिए केंद्र एवं मणिपुर की भाजपा नीत सरकार की आलोचना करते हुए कई वीडियो कथित तौर पर अपलोड करने के लिए उन्हें हिरासत में लिया गया. अधिकारियों ने इससे पहले कहा था कि वांगखेम एक स्थानीय टीवी चैनल में काम करते हैं और अंग्रेजी एवं मेती में 19 नवंबर को अपलोड किए गए वीडियो उनके आधिकारिक कार्य से संबद्ध नहीं थे.

सीएम को कहा था केंद्र की कठपुतली

mi banner add

वीडियो क्लिप में वांगखेम ने कथित तौर पर कहा था कि वह मणिपुर में झांसी की रानी की जयंती मनाए जाने से अचंभित एवं दुखी हैं क्योंकि उनके कार्यों का राज्य से कोई लेना-देना नहीं है. लेकिन केंद्र के कहने पर राज्य सरकार जयंती मना रही है. साथ ही उन्होंने मणिपुर के मुख्यमंत्री बीरेन सिंह को कथित तौर पर ‘कें‍द्र की कठपुतली’ और ‘हिंदुत्व की कठपुतली’ कहा था.

इसे भी पढे़ंं : पिता से मुलाकात कर बोले तेजप्रताप – झारखंड में तेजी से बढ़ रहा अपराध

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: