न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मुख्‍यधारा से जुड़ें नक्‍सली, नहीं तो होगा सफाया : एसपी

सर्च अभियान में पुलिस को बड़ी सफलता हथियार और नक्सली सामान बरामद

72

Chatra : शुक्रवार को भाकपा माओवादी नक्सलियों के साथ हुए भीषण मुठभेड़ के बाद पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है. सर्च अभियान के दौरान पुलिस ने वशिष्ठनगर जोरी और राजपुर थाना क्षेत्र के सीमावर्ती जंगल से एक इंसास राइफल समेत भारी संख्या में नक्सली सामान और साहित्य बरामद किया है.

प्रेसवार्ता में एसपी अखिलेश वारियर ने बताया कि मुठभेड़ के बाद चलाए गए सर्च अभियान के दौरान पुलिस और सीआरपीएफ की संयुक्त टीम ने सीलिंग लगा एक लोडेड रेगुलर इंसास, जिंदा कारतूस, फायर गोली का खोखा, मोबाइल सेट, घड़ी, पाउच, नक्सलियों के दैनिक उपयोग में आने वाले सामान और साहित्य बरामद किया है. उन्होंने बताया कि गुप्त सूचना मिली थी, कि प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी का जोनल कमांडर आलोक व इंदल अपने सशस्त्र दस्ते के साथ झारखंड-बिहार के सीमावर्ती इलाका बेरियो नाला जंगल में सक्रिय हैं. जिले में अपने और संगठन के खिसकने जनाधार को पुनः हासिल करने के उद्देश्य किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में लगा है.

सूचना पर त्वरित कार्रवाई करते हुए सीआरपीएफ 190 बटालियन, कोबरा 203 बटालियन के साथ जिला पुलिस और सेट के जवानों की संयुक्त टीम बनाकर छापामारी के लिए जंगल में भेजा गया था. उन्होंने बताया कि सूचना के आलोक में दल में शामिल जवान और अधिकारी अभियान चला ही रहे थे कि इसी दौरान पुलिस को देखकर जंगल में छिपे नक्सलियों ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी. जिसके बाद सुरक्षाबलों ने भी मोर्चा संभालते हुए उन्हें मुंह तोड़ जवाब दिया. एसपी ने बताया कि खुद पर पुलिस को भारी पड़ता देख नक्सली जंगल का लाभ उठाकर भागने में सफल रहें.

एरिया कमांडर हुआ था ढेर

गौरतलब है कि शुक्रवार को तड़के सुबह भाकपा माओवादी नक्सली और पुलिस के बीच हुए भीषण मुठभेड़ में इलाके में सक्रिय संगठन का एरिया कमांडर चंदर भोक्ता उर्फ गंजू को सुरक्षाबलों ने मार गिराया था. मारे गए नक्सली के विरुद्ध बिहार झारखंड के विभिन्न स्थानों में करीब आधा दर्जन नक्सली मामले दर्ज थे. अभियान में शामिल जवानों की गोलियों से अपने साथी की मौत के बाद दस्ते में शामिल जोनल कमांडर आलोक यादव और इंदल दस्ते में शामिल अन्य सदस्यों के साथ एरिया कमांडर के शव को जंगल में छोड़ कर मौके से भाग निकला था. जिसके बाद सीआरपीएफ और जिला बल के जवानों ने अपर पुलिस अधीक्षक अभियान निगम प्रसाद, एसडीपीओ वरुण रजक और सीआरपीएफ के अधिकारियों के संयुक्त नेतृत्व में इलाके की घेराबंदी कर जंगल में सघन सर्च अभियान चलाया था. इसी अभियान के दौरान पुलिस को सफलता हाथ लगी है.

आत्मसमर्पण करें नक्सली नहीं तो होगा सफाया

प्रेस वार्ता में पुलिस अधीक्षक ने एक बार फिर नक्सलियों को कड़ी चेतावनी देते हुए सरकार के आत्मसमर्पण नीति का लाभ उठाने की अपील की. उन्होंने कहा कि अपराध किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. एसपी ने कहा कि अपराध का रास्ता चुन कर नक्सली ना तो अपना और ना ही समाज का भला कर सकते हैं. मुख्यधारा से भटके नक्सली आत्मसमर्पण नीति का लाभ उठाकर समाज से जुड़ जाएं, वरना उनका हर हाल में सफाया कर दिया जाएगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: