न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी के पाउडर से कैंसर, लगा 32 हजार करोड़ का जुर्माना

कंपनी के खिलाफ मिली थी 9 हजार से ज्यादा शिकायतें

1,058

New Delhi: आपको शायद पता न हो लेकिन जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी के पाउडर में हानिकारक रसायन एसबेस्टस पाया जाता है. इस हानिकारक रसायन एसबेस्टस से महिलाओं में गर्भाशय कैंसर का खतरा बढ़ जाता है. अमेरिका में जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी पर 32 हजार करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया है. कंपनी के खिलाफ 9 हजार से ज्यादा शिकायतें मिली थीं.

कंपनी के खिलाफ अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना

अमेरिका के मिसौरी राज्य में कई महिलाओं ने जॉनसन एंड जॉनसन के खिलाफ मामला दर्ज कराया था. करीब 22 महिलाओं द्वारा दायर किए गए इस मामले में ज्यूरी ने सर्वसम्मति से कंपनी के खिलाफ जुर्माना लगाने का फैसला किया. महिलाओं का आरोप था कि कंपनी के पाउडर के चलते वे गर्भाशय कैंसर की शिकार हुई हैं. महिलाओं का आरोप था कि जॉनसन एंड जॉनसन के दूसरे प्रोडक्ट्स की भी जांच होनी चाहिए.

इसे भी पढ़ें-अब महागठबंधन में घमासान, कांग्रेस ने बिहार में मांगी 12 लोकसभा सीटें

कंपनी ने अपने प्रोडक्ट्स पर नहीं लिखी चेतावनी

कंपनी के खिलाफ अपील करने वाली महिलाओं के वकील ने बताया कि महिलाओं को सत्तर के दशक से ही यह जानकारी थी कि कंपनी के पाउडर आधारित उत्पादों में एसबेस्टस की मौजूदगी है. लेकिन कंपनी ने अपने उत्पादों पर ऐसी कोई चेतावनी नहीं लिखी, जिससे ये पता चलता कि एसबेस्टस के दुष्परिणाम क्या हैं. उन्होंने दावा किया कि कई दशकों तक बेबी पाउडर जैसे उत्पाद प्रयोग करने से उन्हें कैंसर हुआ.

इसे भी पढ़ें-लोकसभा चुनाव से पहले कोयलांचल बीजेपी में हंगामा क्यों है बरपा

silk_park

कंपनी 38 सौ करोड़ रुपये हर्जाना भी भरेगी

कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद फैसला दिया कि कंपनी को 28 हजार 152 करोड़ रुपये दंडात्मक क्षतिपूर्ति और लगभग 3800 करोड़ रुपये प्रतिपूरक क्षतिपूर्ति के रूप में शिकायतकर्ताओं को देने होंगे.

ऊपरी अदालत में करेंगे अपील- कंपनी

उधर कंपनी का दावा है कि नके उत्पादों मे एसबेस्टस मौजूद नहीं है और इस केमिकल से कोई कैंसर नहीं होता. कंपनी ने कहा कि शिकायकर्ता महिलाओं में से ज्यादातर दूसरे राज्यों की थीं, इसके बावजूद उन्होने मिसौरी राज्य में शिकायत की. इस फैसले के खिलाफ हम ऊपरी अदालत में जाएंगे क्योंकि फैसला देने में कई नियमों की अनदेखी की गई है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: