Jharkhand Vidhansabha Election

नौकरी घोटाला : सरयू राय ने रिकॉर्ड जारी कर कहा, रघुवर ने 26 हजार युवकों को रोजगार देने का झूठा दावा किया

Jamshedpur : चुनाव प्रचार के अंतिम दिन सरयू राय ने रघुवर दास पर नौकरी घोटाले का आरोप लगाया. उन्होंने रिकॉर्ड जारी कर कहा कि रघुवर ने एक दिन में एक लाख 26 हजार युवाओं को रोजगार देने का मुख्यमंत्री ने जो दावा किया वह झूठा है.

उन्होंने इस रिकॉर्ड के लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज होने को बड़ा ही हास्यास्पद बताया. साथ ही लिम्का बुक की सत्यता पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि उसे भी इसका जवाब देना होगा.

कुल आंकड़ों में से करीब 26 हजार युवाओं की लिस्ट मीडिया के सामने रखते हुए उन्होंने दावा किया कि इसमें से किसी के पास आज नौकरी नहीं है.

Chanakya IAS
SIP abacus
Catalyst IAS

इसे भी पढ़ें : #AyodhyaVerdict से पाकिस्तान के साथ महागठबंधन भी नाखुश : योगी आदित्यनाथ

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali

रघुवर पर छल करने का आरोप

उन्होंने रघुवर पर युवाओं के साथ छल करने का आरोप लगाते हुए कहा एक तो युवाओं को 7 या 8 हजार की नौकरी मिली वो भी दूसरे राज्य में.

एक तो सम्मानजनक नौकरी नहीं, उस पर सैलरी काफी कम, कौन युवा इसमें समय बर्बाद करेगा. लिहाजा सभी युवा नौकरी छोड़ लौट चुके हैं.

सरयू राय ने ये भी कहा कि इस लिस्ट में ऐसे भी नाम डाले गये हैं जो नौकरी के बजाय विभिन्न संस्थानों में ट्रेनिंग कर रहे हैं.

राज्य में ही नौकरी देने की योजना थी

राय ने रोजगार के लिए सरकार की योजना स्पष्ट करते हुए कहा कि सरकार गठन के दौरान यहां के युवाओं को अपने राज्य में ही नौकरी देने की बात कही गयी थी लेकिन गलत नीतियों के चलते यहां उद्योग लगाने में सरकार असमर्थ रही.

लिहाजा सरकार ने अपनी असमर्थता छिपाने के लिए ऐसा कदम उठाया. सरयू राय ने चुनाव बाद इससे जुड़े कई और दस्तावेज सामने लाने की बात कही.

इसे भी पढ़ें : #Zero_Tolerance वाली रघुवर सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि भी हो गयी दागदार

सीएम पर साधा निशाना

टिकट होल्ड पर ऱखे जाने को लेकर उन्होंने सीधा मुख्यमंत्री रघुवर दास पर निशाना साधते हुए कहा कि उनके कारण ही मुझे टिकट नहीं मिला जबकि पार्टी की केंद्रीय समिति से उनको टिकट का आश्वासन भी मिला और चुनाव की तैयारी का आदेश भी.

सात दिसंबर को जनता इसका हिसाब लेकर रहेगी. सरयू राय ने किसी का नाम न लेते हुए कहा कि चुनावी माहौल में उनको मिल रहे समर्थन से कुछ लोग नाराज थे. लिहाजा खौफ का सहारा लेकर चुनावी माहौल को खराब करने का भी प्रयास हुआ.

प्रशासन को धन्यवाद देते हुए कहा कि प्रशासन की सजगता के चलते ही पूर्वी जमशेदपुर में खौफ और भय का माहौल बन नहीं सका.

इसे भी पढ़ें : हजारीबाग: त्रिवेणी सैनिक कंपनी के GM की हत्या, PLFI सुप्रीमो दिनेश गोप ने ली जिम्मेवारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button