BusinessJobs

युवाओं के लिए जॉब ही जॉब…भारतीय कंपनियाें में बंपर रिक्रूटमेंट की तैयारी…

सर्वे पर नजर डालें तो खासतौर से आईटी, हेल्थकेयर, ई-कॉमर्स, टेक स्टार्टअप्स, एजुकेशनल सर्विसेज तथा बैंकिंग, फाइनेंशियल सर्विसेज और इंश्योरेंस (बीएफएसआई) क्षेत्र में बंपर रिक्रूटमेंट की तैयारी है.

NewDelhi : कोविड-19 महामारी  से त्रस्त हो गयी भारतीय अर्थव्यवस्था के अच्छे दिन आने के संकेत दिख रहे हैं. यह एक सर्वे दिखा रहा है. सर्वे रोजगार के मोर्चे पर अच्छी खबर दे रहा है.  Teamlease Employment Outlook Survey के अनुसार भारतीय कंपनियां इन सर्दियों में बड़े पैमाने पर रिक्रूटमेंट की तैयारी कर रही है. बता दें कि सर्वे में 21 सेक्टरों की 137 कंपनियों को कवर किया गया है.

इसे भी पढ़ें : किसान आंदोलन का असर नहीं… सरकार ने MSP पर खरीदा 60 हजार करोड़ खर्च कर 318 लाख टन धान, खरीदारी जारी

बंपर रिक्रूटमेंट की तैयारी

सर्वे पर नजर डालें तो खासतौर से आईटी, हेल्थकेयर, ई-कॉमर्स, टेक स्टार्टअप्स, एजुकेशनल सर्विसेज तथा बैंकिंग, फाइनेंशियल सर्विसेज और इंश्योरेंस (बीएफएसआई) क्षेत्र में बंपर रिक्रूटमेंट की तैयारी है. जान लें कि टीमलीज के हायरिंग इंटेंट मीट्रिक किसी खास तिमाही में रिक्रूटमेंट करने की योजना बनाने वाली कंपनियों के बारे में जानकारी देते हैं.

इसे भी पढ़ें :  2022 में संसद का शीतकालीन सत्र नये भवन में होने की उम्मीद : लोकसभा महासचिव

बड़ी कंपनियों में 27 फीसदी हायरिंग इंटेंट है

.एजुकेशनल सर्विसेज में 34 फीसदी कंपनियों ने हाइरिंग इंटेंट दिखाया है. आईटी में 29 फीसदी, हेल्थेकेयर में 39 फीसदी, ई-कॉमर्स और टेक स्टार्टअप्स में 31 फीसदी, फाइनेंशियल सर्विसेज में 18 और मैन्युफैक्चरिंग, इंजीनियरिंग और इन्फ्रा में 12 फीसदी हायरिंग इंटेंट की खबर है.  बिजनेस साइज के हिसाब से बात करें तो बड़ी कंपनियों में 27 फीसदी हायरिंग इंटेंट है.

सर्वे की मानें तो अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के लिए 21 फीसदी कंपनियों ने रिक्रूटमेंट की योजना बनाई है.  इस वित्त वर्ष की पहली दो तिमाहियों में यह आंकड़ा 18 फीसदी था.  इस तिमाही के लिए यह मीट्रिक सभी तरह की कंपनियों, जॉब लेवल्स और अर्बन सेंटर्स के लिए बढ़ा है.

इसे भी पढ़ें :   दक्षिण भारत :  निवार तूफान के बाद माथे पर चक्रवाती तूफान बुरेवी का खतरा…

रिवाइवल के संकेत

हालांकि यह हायरिंग इंटेंट सामान्य दिनों के मुकाबले अब भी बहुत कम है. अलबत्ता जॉब मार्केट के जानकारों और विभिन्न कंपनियों के सीईओ और एचआर हेड्स का मानना है कि रोजगार सृजन में भी अब रिवाइवल के संकेत दिख रहे हैं. उनका कहना है कि हायरिंग इंटेट में बढ़ोतरी के कई कारण हैं.  इनमें फेस्टिव डिमांड, लॉकडाउन की पाबंदियों में ढील और सामान्य आर्थिक गतिविधियों में तेजी शामिल है. टीमलीज सर्विसेज की एग्जीक्यूटिव वाइस प्रेजिडेंट रितुपर्णा चक्रवर्ती ने कहा है कि महामारी के कारण हायरिंग इंटेंट रसातल में चली गयी थी लेकिन अब स्थिति बेहतर हुई है

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: