National

#JNU_Treason_Case : अदालत का दिल्ली सरकार को निर्देश, तीन अप्रैल को स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करें

NewDelhi : दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने बुधवार को दिल्ली सरकार को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और अन्य पर देशद्रोह के मामले में मुकदमा चलाने की मंजूरी के मुद्दे पर तीन अप्रैल को स्थिति रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया. मुख्य महानगर मजिस्ट्रेट (सीएमएम) पुरुषोत्तम पाठक ने दिल्ली पुलिस को यह निर्देश भी दिया कि दिल्ली सरकार को कुमार पर अभियोजन के लिए जरूरी मंजूरी के बारे में याद दिलाया जाये.

देशद्रोह के नारों का समर्थन किया और जुलूस निकाला था

Catalyst IAS
ram janam hospital

पुलिस ने दलील दी कि कुमार और अन्य लोगों पर मुकदमा चलाने की मंजूरी अभी तक नहीं दी गयी है और मंजूरी का अनुरोध करने वाला पत्र जीएनसीटीडी (राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र सरकार) के पास लंबित है. इसके बाद अदालत ने निर्देश जारी किये. पुलिस ने कन्हैया कुमार और जेएनयू के पूर्व छात्रों उमर खालिद तथा अनिर्बान भट्टाचार्य समेत अन्य लोगों के खिलाफ अदालत में 14 जनवरी को आरोपपत्र दाखिल किया और कहा था कि उन्होंने 9 फरवरी, 2016 को परिसर में एक समारोह में लगाये गये देशद्रोह के नारों का समर्थन किया और जुलूस निकाला था.

The Royal’s
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें :  #Amit_Shah से नॉर्थ ब्लॉक में शिष्टाचार भेंट करेंगे दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल

पुलिस को कड़ी फटकार लगाई थी

मामले की सुनवाई करते हुए जज ने दिल्ली पुलिस से पूछा कि क्या आपने दिल्ली सरकार को मंजूरी के लिए रिमांइडर नोटिस दिया है, इसके जवाब में दिल्ली पुलिस ने कहा कि रिमाइंडर नोटिस नहीं दिया है. जज ने प्रॉसीक्यूटर पर इससे जवाब मांगा और कहा कि एक महीने के भीतर स्टेटस रिपोर्ट सौंपी जाये.

इससे पहले जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय देशद्रोह मामले में दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने पिछली सुनवाई में पुलिस को कड़ी फटकार लगाई थी. कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से पूछा था कि आखिर मामले में चार्जशीट दाखिल करने से पहले केजरीवाल सरकार से इजाजत क्यों नहीं ली गयी थी? क्या आपके पास लीगल डिपार्टमेंट नहीं है?

इसे भी पढ़ें : #UN_Chief एंटोनियो गुटरेस ने पाकिस्तान में CAA को लेकर भारत के मुस्लिमों को लेकर चिंता जताई

दिल्ली सरकार ने राजद्रोह का केस चलाने की अनुमति नहीं दी है

अदालत ने कहा था कि जब तक दिल्ली सरकार इस मामले में चार्जशीट दाखिल करने की इजाजत नहीं दे देती है, तब तक वो इस पर संज्ञान नहीं लेगी. दिल्ली पुलिस ने जेएनयू राजद्रोह मामले में 14 जनवरी 2018 को 1200 पन्नों की चार्जशीट दाखिल की थी. कोर्ट ने यह आदेश तब जारी किया जब दिल्ली पुलिस ने रिपोर्ट सौंपी कि कन्हैया कुमार और अन्य के खिलाफ दिल्ली सरकार ने राजद्रोह का केस चलाने की अनुमति नहीं दी है. दिल्ली पुलिस का अनुरोध अभी दिल्ली सरकार के पास लंबित है.

14 जनवरी को पुलिस ने कन्हैया कुमार, अनिर्बान भट्टाचार्य, उमर खालिद और अन्य के खिलाफ चार्जशीट तैयार की थी. इस चार्जशीट में दावा किया गया है कि वे ऐसे कार्यक्रम का नेतृत्व कर रहे थे जिसमें देश विरोधी नारे लगाए गए. इन नारों का इन्होंने समर्थन भी किया था. यह घटना 9 फरवरी 2016 की है.

इसमें फरवरी 2016 में जेएनयू में एक कार्यक्रम के दौरान कथित तौर पर देश विरोधी नारेबाजी करने के आरोप में दिल्ली पुलिस ने जेएनयू के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार, छात्र नेता उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य को मुख्य आरोपी बनाया है. इस मामले में इन तीनों को जेल भी जाना पड़ा था. हालांकि बाद में कोर्ट से इनको जमानत मिल गई थी. तब से तीनों जमानत पर बाहर चल रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : #Bombay_High_Court का फैसला, बच्चे को दादा-दादी से मिलने नहीं देना गलत, मां की याचिका खारिज

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button