न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#JNUStudents का फीस बढ़ोतरी को लेकर राष्ट्रपति भवन मार्च, पुलिस का लाठीचार्ज

जेएनयू स्टूडेंट्स यूनियन ने घोषणा कि है कि अगर फीस कम नहीं की गयी तो वे पढ़ाई के बाद अब परीक्षा का भी बहिष्कार करेंगे.

28

NewDelhi : जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में फीस बढ़ोतरी को लेकर जेएनयू के छात्रों ने सोमवार को राष्ट्रपति भवन जाने के लिए मार्च निकाला. लेकिन रास्ते में पुलिस और छात्रों के बीच झड़प हो गयी. पुलिस ने छात्रों को रोकने के लिए लाठीचार्ज कर दिया. लाठीचार्ज के बाद स्थिति तनावपूर्ण हो गयी. छात्रों की मांग है कि उन्हें राष्ट्रपति से मिलने दिया जाये.

लाठीचार्ज से नाराज छात्र रिंग रोड पर बैठ गय. सड़कों पर भारी संख्या में उतरे छात्रों की वजह से ट्रैफिक जाम की समस्या भी खड़ी हो गयी. छात्रों ने राष्ट्रपति से छात्रावास फीस वृद्धि के मुद्दे पर हस्तक्षेप करने की मांग की है. राष्ट्रपति जेएनयू के विजीटर भी हैं.

Sport House

इसे भी पढ़ें : #KarnatakaByElection  : येदियुरप्पा की सत्ता बची, 15 में से 12 सीटें जीती, 224 सदस्यीय विधानसभा में  भाजपा के अब 117 विधायक

जो एग्जाम नहीं देगा, वो फेल हो सकता है

मार्च निकालने से पूर्व छात्र जेएनयू में जमा हुए. छात्रों के पैदल मार्च का जेएनयू टीचर्स एसोसिएशन ने भी समर्थन दिया. हॉस्टल फीस के मसले को लेकर जेएनयू सुर्खियों में है. 12 दिसंबर से स्टूडेंट्स के सेमेस्टर एग्जाम है. जेएनयू स्टूडेंट्स यूनियन ने घोषणा कि है कि अगर फीस कम नहीं की गयी तो वे पढ़ाई के बाद अब परीक्षा का भी बहिष्कार करेंगे.

इसे भी पढ़ें : हंगामे के बीच #CitizenshipAmendmentBill लोकसभा में पेश, पक्ष में 293, बिल के खिलाफ 82 वोट, 375 सदस्यों ने वोटिंग की

Related Posts

# CAA_Violence : देश के 154 प्रबुद्ध नागरिक राष्ट्रपति से मिले, CAA के विरोध में हिंसा करने वालों पर कार्रवाई का आग्रह

ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने वालों में राज्यसभा के पूर्व महासचिव योगेंद्र नारायण, केरल के पूर्व मुख्य सचिव सी वी आनंद बोस, पूर्व राजदूत जी एस अय्यर, पूर्व रॉ प्रमुख संजीव त्रिपाठी, आईटीबीपी के पूर्व महानिदेशक एस के कैन, पूर्व सेना उपप्रमुख एन एस मलिक जैसी कई प्रमुख हस्तियां शामिल हैं.

Mayfair 2-1-2020

विद्यार्थी एग्जाम के बहिष्कार की अपील को ना सुनें

दूसरी ओर आम स्टूडेंट्स इस मसले की वजह से परेशान और उलझे हुए हैं. उनसे जेएनयू प्रशासन कह चुका है कि विद्यार्थी एग्जाम के बहिष्कार की अपील को ना सुनें. प्रशासन का कहना है कि एग्जाम की डेट आगे नहीं की जायेगी जो एग्जाम नहीं देगा, वो फेल हो सकता है या उसका नाम जेएनयू से कट सकता है.

मार्च के मद्देनजर जेएनयू के आसपास सुरक्षा बढ़ा दी गयी थी. छात्रों ने तस्वीरें दिखाकर दावा किया कि पुलिस ने जेएनयू के सभी प्रवेश द्वार बंद कर दिये हैं. जेएनयू छात्र हॉस्टल की फीस बढ़ाये जाने के खिलाफ एक महीने से प्रदर्शन कर रहे हैं और उन्होंने प्रशासन की बार-बार चेतावनियों के बावजूद आगामी सेमेस्टर परीक्षाओं का बहिष्कार करने का भी आह्वान किया है.

इसे भी पढ़ें : #GST मुआवजे को लेकर सात राज्य केंद्र सरकार के खिलाफ #SupremeCourt जाने को तैयार

 

 

SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like