न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धार्मिक भावना को ठेस पहुंचानेवाले जेएमएम नेता को पार्टी ने किया निलंबित

265
  • पश्चिम सिंहभूम के जिला अध्यक्ष भुवनेश्वर महतो ने किया था आपत्तिजनक पोस्ट
  • पार्टी की केंद्रीय समिति ने बनायी दो सदस्यीय कमिटी, एक सप्ताह में देगी रिपोर्ट

Ranchi : सोशल नेटवर्किंग साइट ‘फेसबुक’ पर धार्मिक भावना को लेकर आपत्तिजनक पोस्ट करने के आरोप में जेल भेजे गये जेएमएम नेता भुवनेश्वर महतो को पार्टी केंद्रीय समिति ने तत्काल प्रभाव से जिलाध्यक्ष के पद से निलंबित कर दिया है. भुवनेश्वर महतो पश्चिम सिंहभूम के जिला अध्यक्ष थे. वहीं घटना की निष्पक्ष जांच के लिए पार्टी ने दो सदस्यीय कमेटी का गठन किया है. जांच कमेटी में बहरागोड़ा से पार्टी विधायक सह प्रवक्ता कुणाल षाड़ंगी और सिल्ली से पूर्व विधायक सह केंद्रीय कार्यकारिणी सदस्य अमित कुमार को शामिल किया गया है.

इसे भी पढ़ें – धनबादः हाइवा से कुचल कर किशोर की मौत, परिजनों का हंगामा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज, आंसू गैस के गोले भी दागे

पार्टी प्रवक्ता विनोद पांडेय ने बताया है कि जांच कमेटी सदस्य अगले एक सप्ताह के अंदर जांच रिपोर्ट पार्टी अध्यक्ष शिबू सोरेन और कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरन को सौपेंगी, ताकि मामले की पूरी जानकारी लेकर इस पर आगे की कार्रवाई की जा सके.

इसे भी पढ़ें – रिम्सः जिस पद पर अधिकतम तीन वर्षों तक लेनी थी सेवा, वहां वर्षों से जमे हैं डॉक्टर

प्राथमिकी दर्ज होने पर पुलिस ने किया था गिरफ्तार

जेएमएम नेता भुवनेश्वर महतो ने गुरुवार को सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक तस्वीर डाल कर टिप्पणी भी की थी. इसके बाद आक्रोशित लोगों ने गुरुवार रात ही चक्रधरपुर थाने का घेराव कर भुवनेश्वर महतो के खिलाफ नारेबाजी की थी. उनके खिलाफ चक्रधरपुर थाना में भाजपा नेता संजय मिश्रा ने प्राथमिकी दर्ज करायी थी. दर्ज प्राथमिकी में उन्होंने जेएमएम नेता पर धार्मिक भावना को भी ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया था. लोगों के बढ़ते आक्रोश को देख पुलिस ने भुवनेश्वर महतो को गिरफ्तार कर लिया था.

इसे भी पढ़ें – पलामू :  केएन त्रिपाठी की जनता को सलाह,  पीने का साफ पानी न मिले, तो निगम को बिल का भुगतान न करें  

मांगी थी माफी

मामले को लेकर जेएमएम नेता ने माफी भी मांगी थी. उन्होंने कहा था कि उनसे बहुत बड़ी गलती हो गयी थी. उन्होंने गलती से सोशल मीडिया पर इस तरह का पोस्ट शेयर किया था. इसके लिए वे काफी शर्मिंदा हैं और सबसे माफी मांगते हैं.

इसे भी पढ़ें – सीएनटी एक्ट का उल्लंघन : कल्पना सोरेन के मामले की जांच का स्वागत, समीर उरांव व रामकुमार पाहन पर कब होगी कार्रवाई

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: