न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड मुक्ति मोर्चा के वरिष्ठ नेता धनेश्वर मंडल का दिल का दौरा पड़ने से निधन, शिबू सोरेन ने जताया दुख

झारखंड आंदोलन के बड़े नेता थे धनेश्वर मंडल

807

Giridih: अलग झारखंड राज्य की लड़ाई लड़ने वाले बड़े नेताओं में से एक और झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के वरिष्ठ नेता धनेश्वर मंडल का सोमवार  सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. देर रात गांडेय के मरगोडीह स्थित आवास पर उनकी तबीयत बिगड़ गई थी. परिजन उन्हें इलाज के लिए गिरिडीह ले जा रहे थे. रास्ते में ही उन्होंने दम तोड़ दिया. धनेश्वर अलग राज्य की लड़ाई में जेल भी जा चुके थे. झारखंड अलग राज्य बनने के पूर्व बने जैक के वे पार्षद भी थे. झामुमो सेंट्रल कमेटी में वे लंबे समय से थे.

झामुमो के जनप्रिय नेता थे धनेश्वर मंडल
झामुमो के जिलाध्यक्ष संजय सिंह ने कहा कि पार्टी ने एक जुझारू नेता और मार्गदर्शक खो दिया. उन्होंने बताया कि दिवंगत धनेश्वर मंडल गिरिडीह जिले में झामुमो के स्थापना काल से ही पार्टी से जुड़े थे. उन्होंने कई आंदोलनों में भाग लिया. गुरुजी के नेतृत्व में मजबूती से पार्टी के विस्तार में लगातार अपना योगदान देते रहे. अविभाजित बिहार में वह झारखंड एडवाइजरी काउंसिल के सदस्य भी थे.

इसे भी पढ़ें-सीएनटी-एसपीटी एक्ट उल्लंघन मामले में बनी एसआईटी की रिपोर्ट सार्वजनिक करे सरकार, पूरे प्रकरण की हो सीबीआई जांच : झामुमो

शिबू सोरेन ने जताया दुःख

झामुमो अध्यक्ष शिबू सोरेन ने उनके निधन पर दुख व्यक्त किया है. धनेश्वर मंडल के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार देर शाम गांडेय में नदी किनारे कर दिया गया. उनकी अंतिम यात्रा में बड़ी संख्या में नेता और कार्यकर्ता मौजूद थे.

दिवंगत नेता धनेश्वर मंडल के पार्थिव शरीर का दर्शन करते नेता और कार्यकर्ता
दिवंगत नेता धनेश्वर मंडल के पार्थिव शरीर का दर्शन करते नेता और कार्यकर्ता

कई नेताओं ने दी श्रद्धांजलि
झामुमो के विधायक जगन्नाथ महतो, पूर्व मंत्री हाजी हुसैन अंसारी, सुदिव्य सोनू, प्रमिला मेहरा, दिनेश यादव, भाजपा विधायक जयप्रकाश वर्मा समेत झाविमो, कांग्रेस, माले और अन्य दलों के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने दिवंगत धनेश्वर मंडल के निधन पर शोक व्यक्त कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: