JharkhandRanchi

19 सालों से #JMM आदिवासियों पर कर रहा Emotional अत्याचार : सालखन मुर्मू

Ranchi : पूर्व सांसद सह झारखंड प्रदेश जदयू अध्यक्ष सालखन मुर्मू ने झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) पर आदिवासियों के साथ इमोशनल अत्याचार (इमोशनल एक्सप्लॉइटेशन) करने का आरोप लगाया है.

उन्होंने कहा कि राज्य गठन के 19 साल होने को हैं लेकिन तीर-धनुष के नाम पर और हड़िया-दारू खिलाकर, साड़ी-धोती देकर जेएमएम आदिवासियों को आगे बढ़ने से रोक रहा है.

पूर्व सांसद ने यह बातें बिहार के सीएम नीतीश कुमार के 7 सितम्बर (शनिवार) को आयोजित कार्यक्रमों की तैयारी को लेकर शुक्रवार को आयोजित प्रेस वार्ता में कही. इस दौरान जदयू के राष्ट्रीय सचिव व बिहार सरकार में समाज कल्याण मंत्री सह प्रदेश प्रभारी रामसेवक सिंह कुशवाहा, सह-प्रभारी अरुण सिंह, युवा प्रवक्ता सागर कुमार सहित कई कार्यकर्ता उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : झारखंडः हड़ताल.. हड़ताल.. हड़ताल.. कुपोषित बच्चों को भोजन नहीं, गरीब बच्चों को शिक्षा नहीं…

बिहार के मंत्री को नहीं पता कि नागालैंड में जदयू ने एनडीए को दिया है समर्थन

एनडीए से अलग होकर चुनाव लड़ने की बात करने वाले मंत्री रामसेवक सिंह को यह पता नहीं कि नागालैंड में जदयू ने भाजपा समर्थित गठबंधन को अपना समर्थन दिया है.

मंत्री रामसेवक सिंह ने बताया कि आगामी विधानसभा चुनाव में जदयू राज्य के 81 सीटों पर चुनाव लड़ेगा. चुनाव लड़ने के पहले कार्यकर्ताओं में एकजुटता लाने और तैयारी को लेकर शनिवार को राजधानी में प्रदेश कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित की गयी है, जिसमें सीएम नीतीश कुमार उपस्थित रहेंगे.

प्रेसवार्ता के दौरान न्यूज विंग संवाददाता ने उनसे एनडीए के सहयोगी होने के बावजूद राज्य में अकेले चुनाव लड़ने पर सवाल किया तो उनका जवाब था, “बिहार के अलावा अन्य राज्यों में जदयू एनडीए के साथ नहीं है.” लेकिन जब उनसे नागालैंड में बीजेपी को दिये समर्थन की बात याद दिलायी गयी, तो वे सही जवाब नहीं दे पायें.

बता दें कि नागालैंड में जदयू ने भाजपा समर्थित गठबंधन को अपना समर्थन दिया है. नागालैंड में जदयू के एक विधायक ने जीत हासिल की है.

चुनाव आयोग द्वारा पार्टी के चुनाव चिह्न से चुनाव नहीं लड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा कि आयोग जो भी चिह्न आवंटित करेगी, उसी के बदौलत पार्टी मजबूती से चुनाव लड़ेगी.

इसे भी पढ़ें : ACB ने कतरास थाना प्रभारी के बॉडीगार्ड को चार हजार घूस लेते किया गिरफ्तार

500 करोड़ की जमीन खरीदने के आरोप का जवाब नहीं दे पा रहे हेमंत

सालखन ने जेएमएम पर आदिवासियों पर इमोशनल एक्सप्लॉइटेशन का आरोप लगाते हुए कहा कि आदिवासियों के हित के लिए शिबू सोरेन और हेमंत सोरेन से उम्मीद करना बेकार है. चार बार मुख्यमंत्री बनकर भी दोनों ने सीएनटी-एसपीटी एक्ट को तोड़ा. बीजेपी हमेशा एक्ट का उल्लंघन कर हेमंत सोरेन पर 500 करोड़ रुपये की जमीन खरीदने की आरोप लगा रही है, लेकिन हेमंत इसपर जवाब नहीं दे पा रहे हैं.

झारखंडी डोमेसाइल नीति बनाने के वादा कर जब हेमंत सीएम बने, तो उसके बाद भी उन्होंने आदिवासियों के हितों में कुछ काम नहीं किया. यही कारण है कि पार्टी सुप्रीमो शिबू सोरेन को लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त मिली है.

इस दौरान उन्होंने बीजेपी पर भी सीएनटी-एसपीटी एक्ट उल्लंघन करने की बात कही. कहा कि बड़े-बड़े पूंजीपतियों और उद्योगपतियों के लिए जबरन भूमि अधिग्रहण कर झारखंडी जन को विस्थापित और पलायन करने को मजबूर करना ही बीजेपी का विकास मॉडल है.

इसे भी पढ़ें : #EconomyRecession जल्द खत्म हो सकती है ऑटो सेक्टर के विकास की कहानी: टाटा मोटर्स

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: