न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

टीटीपीएस अस्पताल खोलने को जेएमएम ने माना आचार संहिता का उल्लंघन, पत्र लिख की शिकायत

केंद्रीय निर्वाचन आयोग सहित दो अधिकारियों को सौंपी प्रतिलिपि

445

Ranchi: राज्य सरकार के प्रतिष्ठान तेनुघाट विद्युत निगम लिमिटेड (टीटीपीसी) में हो रहे कई तरह के कार्यों को जेएमएम ने आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन माना है. इस संदर्भ में पार्टी ने केंद्रीय निर्वाचन आयोग को एक पत्र लिखकर यहां हो रहे कार्यों की समीक्षा करते हुए मामले की जांच और जिम्मेदार पदाधिकारियों पर आपराधिक मुकदमा दर्ज कराने की मांग की है. पत्र की एक प्रतिलिपि पार्टी ने राज्य निर्वाचन पदाधिकारी और गिरिडीह लोकसभा क्षेत्र के निर्वाचन पदाधिकारी को भी सौंपा है. टीटीपीएस में दो साल से बंद पड़े अस्पताल को खोलने के लिए एक लोकार्पण कार्यक्रम का आयोजन किया था, जिसे जेएमएम आचार संहिता का उल्लंघन मान रहा है.

इसे भी पढ़ें – धनबाद :  आरटीई नियमों की अनदेखी कर निजी स्कूलों में लिया जा रहा एडमिशन

अधिकारियों के बीच कार्यों का आवंटन

पार्टी महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने शुक्रवार को एक प्रेस रिलीज जारी कर बताया कि लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर पूरे राज्य में चुनावी आदर्श आचार संहिता लागू है. इस दौरान प्रतिष्ठान में सरकार द्वारा कुछ ऐसे कार्यों को अंजाम दिया जा रहा है, जो संहिता का उल्लंघन करता है. यहां तक की इन कार्यों के आलोक में टीटीपीसी के प्रबंध निदेशक अरविंद कुमार सिन्हा के आदेश पर कार्यालय आदेश जारी कर कई अधिकारियों को कार्यों का आवंटन भी कर दिया गया.

पार्टी के मुताबिक टीटीपीसी में निम्न कार्यों को अंजाम दिया गया है

  • गत 22 अप्रैल को आदेश संख्या 2/19-20 के माध्यम से टीटीपीएस के अस्पताल का प्रबंधन एक निजी अस्पताल को सौंपने संबंधी आदेश जारी किया गया. इस कार्य हेतु एजेंसी का चयन भी मनमाने तरीके से हुआ. लेकिन इसकी कोई प्रकिया नहीं अपनायी गई, न ही इसके लिए कोई आवश्यक अनुमति ही ली गयी.
  • उक्त अस्पताल का उद्घाटन गत 2 मई को किया गया, जिसमें विभिन्न राजनेताओं को भी शामिल कराया गया. इसके लिए भी कोई अनुमति नहीं ली गयी.
  • गत 30 अप्रैल को टीटीपीएस द्वारा स्थानांतरण एवं पदस्थापन संबंधी कार्यालय आदेश 27/9-20 जारी किया गया, जिसके लिए भी कोई अऩुमति नहीं लगी गयी.

इसे भी पढ़ें – जैक छात्रों के लिए खुशखबरी, छात्रों को मिलेंगे अच्छे नंबर,  इसी माह आ जायेगा इंटर और मैट्रि‍क का रिजल्ट

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: