न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रघुवर के अमर्यादित बयान के खिलाफ जेएमएम ने दुमका थाना में की शिकायत, कार्रवाई की मांग

250

Ranchi :  झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) ने मुख्यमंत्री रघुवर दास के खिलाफ दुमका के अनुसूचित जाति एवं जनजाति थाना में शिकायत दर्ज करायी है. रघुवर दास पर आरोप लगाया गया है कि उन्होंने हेमंत सोरेन का नाम लेकर अमर्यादित भाषा का प्रयोग किया है.

पार्टी के कार्यकारी अध्य़क्ष हेमंत सोरेन द्वारा की गयी शिकायत में कहा गया है कि जामताड़ा विधानसभा अंतर्गत मिहिजाम में आयोजित एक चुनावी सभा में मुख्यमंत्री ने उनके नाम के साथ जाति सूचक उपनाम लेकर अमर्यादित भाषा का प्रयोग किया है, जिससे उनकी प्रतिष्ठा को ठेस पहुंची है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

शिकायत में एक स्थानीय अखबार में छपी खबर को प्रमाण के रूप में सौंप कर कहा गया है कि मामले पर अनुसूचित जाति एवं अऩुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण कानून तथा आइपीसी की सुसंगत धारा के तहत आवश्यक कार्रवाई की जाये.

इसे भी पढ़ें- #JharkhandElection: 5th फेज की वोटिंग जारी, सुबह 9 बजे तक 16 विधानसभा सीटों पर 12.01 प्रतिशत मतदान

मुख्यमंत्री को यह अधिकार किसने दिया कि वे आदिवासी के बेटे का अपमान करें 

मामले की जानकारी देते हुए पार्टी प्रवक्ता सह केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने बताया कि जेएमएम नेता हेमंत सोरेन के खिलाफ मुख्यमंत्री ने जैसी भाषा का प्रयोग किया है, वह काफी निदंनीय है. अखबार की मूल प्रति के साथ दर्ज शिकायत कर पार्टी मांग करती है कि चुनाव आयोग मामले में संझान लेते हुए त्वरित कार्रवाई करे.

उन्होंने कहा कि बीजेपी नेता जेएमएम के राजनीतिक विरोधी हो सकते हैं. वे पार्टी की राजनीतिक विचारधारा से अलग मत रख सकते हैं. लेकिन किसी सभा के मंच से ऐसा कह कर मुख्यमंत्री ने यह बता दिया है कि वे बाहरी दिकू हैं.

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ मूल के मुख्यमंत्री को यह अधिकार किसने दिया है कि झारखंड के पुत्र का अपमान करें. पार्टी मांग करती है कि मुख्यमंत्री पर आपराधिक मुकदमा दर्ज हो.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

इसे भी पढ़ें – #IndiaAgainstCAA: थम नहीं रहा विरोध, यूपी में हिंसक प्रदर्शन के बाद इंटरनेट व SMS सेवाएं बंद

सरकार बनते ही गलत अफसरों पर होगी उचित कार्रवाई

सुप्रियो ने कहा कि यह कोई नयी बात नहीं है कि मुख्यमंत्री ने ऐसी भाषा का प्रयोग किया है. पहले वे सदन में बोलते थे, अब खुली सड़क पर ऐसी भाषा बोल रहे हैं. उनकी इस अमर्यादित भाषा से संथाल के लोग पूरी तरह से मर्माहत हैं.

जेएमएम हमेशा से कहता रहा है कि सरकारी मशीनरी से चुनाव को मुक्त रखा जाये. लेकिन आज भी थाना प्रभारी, सीओ और बीडीओ सरकार के समक्ष समर्पित होकर काम रहे हैं. सुप्रियो ने कहा कि पार्टी ने ऐसे अफसरों को चयनित कर रखा है. चुनाव बाद जब जेएमएम की सरकार सत्ता में आयेगी, तो इन पर हमारी सरकार उचित कार्रवाई करेगी.

इसे भी पढ़ें – बालूमाथ में कोयला व्यवसायी पर अपराधियों ने चलायी गोली, बाल-बाल बचे

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like