National

J&K : अनुच्छेद 370 हटने के बाद पहली बार जम्मू-कश्मीर दौरे पर अमित शाह

Jammu : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज से जम्मू कश्मीर के दौरे पर हैं. 5 अगस्त, 2019 को जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त कर दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित होने के बाद शाह की यह पहली यात्रा है. यात्रा से पहले पूरे कश्मीर में सुरक्षा बढ़ा दी गई है. वह यहां तीन दिनों तक रहेंगे और राज्य के विकास कार्यों का जायजा लेंगे. लेकिन जिन हालातों में उनका ये दौरा हो रहा है, उसे देखते हुए उनकी ये यात्रा को काफी अहम मानी जा रही है.  इससे पहले शाह ने 2019 में गृह मंत्री के रूप में कार्यभार संभालने के ठीक बाद कश्मीर के दौरे पर गए थे, जब भाजपा ने दोबारा आम चुनावों में बड़ी जीत हासिल की थी.

इसे भी पढ़ें : ट्विटर पर लौटे अफगानिस्तान के कार्यवाहक राष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह, पाकिस्तान को लगाई लताड़

advt

शाह का ये दौरा ऐसे वक्त में हो रहा है, जब पिछले कुछ दिनों से घाटी में आतंकी मजदूरों और अल्पसंख्यक हिंदुओं को निशाना बना रहे हैं. आतंकी हमलों के बाद लोगों में खौफ भी बढ़ गया है. कई प्रवासी मजदूर और अल्पसंख्यक हिन्दू घाटी छोड़कर भी जा रहे हैं. ऐसे में शाह का दौरा अल्पसंख्यकों में भरोसा जगा सकता है. ऐसे में शाह के दौरे के जरिए पाकिस्तान को ये संदेश देने की कोशिश भी होगी कि वो कितना ही आतंक फैलाए, भारत अपने लोगों का हौसला हिलने नहीं देगा.

अपने तीन दिन के दौरे में शाह आतंकियों के निशाने पर आकर अपनों को खोने वाले पीड़ित परिवारों से भी मुलाकात करेंगे. शाह कश्मीरी पंडित माखन लाल बिंदरू, सुपिंदर कौर और 7 अक्टूबर को शहीद हुए 25 साल के एसआई अहमद मीर के परिजनों से मिलेंगे. बताया जा रहा है कि शाह पहले इनके घर जाकर ही इनसे मुलाकात करना चाहते थे, लेकिन सुरक्षा कारणों के चलते एजेंसियों ने ऐसा न करने की सलाह दी.

अमित शाह शनिवार को श्रीनगर एयरपोर्ट पर उतरेंगे. वहां श्रीनगर-शारजाह इंटरनेशनल फ्लाइट का शुभारंभ भी करेंगे और इसके बाद यहां से सीधे राजभवन जाएंगे. राजभवन में शाह की सुरक्षा और खुफिया एजेंसियों के प्रमुखों के साथ एक अहम बैठक होगी. इस बैठक में केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला, रॉ चीफ सामंत कुमार गोयल, जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह, आईबी चीफ अरविंद कुमार, सीआरपीएफ और एनआईए के डीजीपी कुलदीप सिंह, एनएसजी के डीजीपी एमए गणपति, बीएसएफ के डीजीपी पंकज सिंह और आर्मी कमांडर शामिल होंगे. जम्मू और कश्मीर दोनों जगह के आईजी भी इस बैठक में मौजूद रहेंगे. इस बैठक में आतंक के खिलाफ रणनीति को लेकर चर्चा हो सकती है.

जम्मू-कश्मीर के भाजपा नेता सुनील शर्मा ने बताया कि अमित शाह के एक कार्यक्रम में भाजपा के जिलाध्यक्षों को भी आमंत्रित किया गया है. इसके अलावा वह जम्मू में 24 अक्टूबर को पार्टी की एक रैली को भी संबोधित करेंगे.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: