ChaibasaDharm-JyotishJamshedpurJharkhand

Jivitputrika Vrat: ज‍िव‍ित्‍पुत्र‍िका व्रत पर माताओं ने निर्जला उपावास रखकर की संतान के दीर्घायु होने की कामना, पारण कल

Jamshedpur/ Chaibasa: संतान के दीर्घायु, आरोग्यता और सुखमय जीवन के लिए माताओं ने जिउतिया का कठिन व्रत रव‍िवार को रखा. निर्जला उपवास कर माताओं ने बच्चों के सुख – समृद्धि और उन्नति के लिए मंगल कामना की. आश्वि‍न मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को क‍िया जाने वाला
जिउतिया व्रत कोल्‍हान के तीनों ज‍िलों पश्चिमी सिंहभूम, पूर्वी स‍िंहभूम और सरायकेला-खरसावां में परंपरागत रूप से रखा गया. इस मौके पर व्रती माताओं ने निर्जला उपवास रखकर भगवान जीमूतवाहन की विधिवत पूजा-अर्चना की एवं जीवित्‍पुत्रिका व्रत कथा का नियमानुसार श्रवण किया. इसके लिए जगह-जगह व्रती माताओं की भीड़ जुटी थी.

जमशेदपुर के खरकाई और स्‍वर्णरेखा के अलावा चक्रधरपुर में व्रतियों ने स्थानीय छठ नदी घाट में विधिवत स्नान कर विधिवत पूजा- पाठ के बाद जीमूतवाहन की कथा सुनी. ऐसी मान्यता है कि व्रत रखनेवाली माताओं के पुत्र दीर्घजीवी होते हैं और उनके जीवन में आनेवाली सारी विपत्त‍ियां स्वत: टल जाती हैं. हालांकि, इस बार जितिया व्रत विभिन्न समुदाय द्वारा शनिवार को ही मना लिया गया.
सूर्य उदय के बाद होगा पारण


चक्रधरपुर रानी सती मंदिर के पुजारी यूएन उपाध्याय ने बताया कि व्रत का जितना महत्‍व है कारण भी उतना ही महत्वपूर्ण है. सोमवार को सूर्य उदय का बाद पारण करना है.

Sanjeevani

ये भी पढ़ें- Jamshedpur Shocking News : ज‍िस बेटे की सलामती के ल‍िए रखा था ज‍िउत‍िया व्रत, वह आंखों के सामने बह गया नदी में, अब हो रही तलाश

Related Articles

Back to top button