Corona_UpdatesJharkhandRanchi

जमशेदपुर के डॉ राजेश ने तैयार किया कोरोना को हराने के लिए ‘वायरस फ्री सॉल्यूशन’

Ranchi: झारखंड के जमशेदपुर के रहने वाले डॉ राजेश ने एक वायरस फ्री सॉल्यूशन तैयार किया है. यह लिक्विड फॉर्म में है और नॉन टोक्सिक है. नैनोवा हाइजीन प्लस टेक्नोलॉजी से बने इस सॉल्यूशन का नाम एंटी वायरल कोटिंग रखा गया है. यह लिक्विड किसी भी सतह को पूर्ण रूप से वायरस फ्री कर सकता है. इसके एक बार इस्तेमाल के बाद 90 दिन तक किसी भी तरह के जर्म्स नहीं पनप सकते हैं. इससे डॉक्टर राजेश के अलावा डॉ स्वपन घोष और डॉ फैजल अंसारी ने मिलकर तैयार किया है. इसे बनाने में एडवांस एंटीमाइक्रोबॉयल नैनो पार्टिकल्स टेक्नोलॉजी का भी इस्तेमाल किया गया है.

डॉ राजेश के अनुसार यह भारत में मौजूद वायरस टेस्टिंग के सभी पैमाने पर खरा उतर चुका है. इसके अलावा अमेरिका के नेल्सन लैब ने भी इसे 99 प्रतिशत वायरस फ्री प्रोडक्ट करार दिया है. उन्होंने बताया कि इसे पेटेंट कराने के लिए भी आवेदन किया जा चुका है. फिलहाल बाजार में इसके 1 लीटर की कीमत ₹350 है और 1 लीटर में 120 से 150 स्क्वायर फीट तक कवरेज देता है.

advt

कैसे किया जाए इस्तेमाल

डॉ राजेश ने बताया कि या सॉल्यूशन पूरी तरह से पानी जैसा है. नैनोवा हाइजीन प्लस सॉल्यूशन का लेप किसी भी सतह पर लगाना होगा. लेप लगाने के बाद उस स्थान पर 90 दिन तक ह्यूमन कोरोना वायरस 229 E का खतरा नहीं रह जाता. उन्होंने बताया कि लेप लगाने के बाद अगर कोई कोरोना संक्रमित मरीज लिक्विड कोटेड जगह को छूता है तो इससे नैनो मलीकल एक्टिव हो जाते हैं और कोरोना वायरस को डीएक्टिवेट और न्यूट्रलाइज कर देते हैं.

2 से 3 साल तक एंटीबैक्टीरियल कोटिंग नाम से बाजार में बेचा जा चुका है

डॉ राजेश ने बताया कि इससे पहले दो-तीन साल तक एंटीबैक्टीरियल कोटिंग के नाम से बाजार में बेचा जा चुका है. कोरोना संक्रमण फैलने के बाद इस पर रिसर्च कर उसी मॉलिक्यूल को नेल्सन लैब से टेस्ट कराया गया और पाया कि यह पूरी तरह कारगर है. जिसके बाद इस प्रोडक्ट का नाम एंटीवायरल कोटिंग रखा गया है. डॉ राजेश ने बताया कि यह 90 दिन से भी अधिक प्रोटेक्शन दे सकता है. फिलहाल इसे 90 दिन के लिए ही टेस्ट किया गया है जिसके बाद बाजार में लाया गया है. बाद में इससे अधिक दिन के लिए टेस्टिंग कराकर क्लेम किया जाएगा.

adv

डॉ राजेश का परिचय

डॉ राजेश जमशेदपुर के भारी डीके विजया गार्डन के रहने वाले हैं. इन्होंने आईआईटी बॉम्बे से पीएचडी की है. पीएचडी के बाद वे जर्मनी चले गए. जर्मनी से लौटकर डॉ स्वपन घोष और डॉ फैजल अंसारी के साथ मिलकर ‘नैनोवा केयर कोट’ कंपनी बनाई. इन तीनों की कंपनी ने मिलकर अब तक साथ प्रोडक्ट का पेटेंट कराया है.

advt
Advertisement

11 Comments

  1. I blog frequently and I genuinely appreciate your information. Your article has truly peaked my interest.
    I will bookmark your blog and keep checking for new information about once per week.
    I subscribed to your RSS feed too.

  2. Hi! Do you know if they make any plugins to safeguard against hackers?
    I’m kinda paranoid about losing everything I’ve worked hard on. Any recommendations?

    cheap flights 34pIoq5

  3. I blog often and I genuinely appreciate your content.
    Your article has really peaked my interest.
    I am going to bookmark your website and keep checking
    for new information about once per week. I subscribed to your RSS feed too.

  4. Hi there would you mind sharing which blog platform
    you’re using? I’m planning to start my own blog soon but I’m having a difficult time deciding between BlogEngine/Wordpress/B2evolution and Drupal.

    The reason I ask is because your design and style seems different then most blogs and I’m looking for something completely unique.

    P.S Sorry for getting off-topic but I had to ask!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button