Dhanbad

44 महीने के बकाये वेतन की मांग को लेकर झमाडा कर्मियों का धरना, 15 जून से अनिश्चितकालीन हड़ताल

Dhanbad: धनबाद के झमाडा कर्मचारियों का वेतन 44 महीने से बाकी है. बकाया भुगतान की मांग को लेकर कर्मचारी दो दिनों से धरने पर बैठे हैं.

लेकिन प्रशासन की ओर से अब तक कोई कदम नहीं उठाया है. झमाडा एमडी की बेरूखी देख कर्मचारियों ने 15 जून यानी कल से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की घोषणा कर दी है.

हालांकि, प्रबंधन के रवैये को देख कर्मचारियों ने 23 मई को ही इसकी घोषणा की थी. और अब झमाडा कर्मचारियों ने अपनी 9 सूत्री मांगों को लेकर 15 जून से अनिश्चित कालीन हड़ताल पर जाने की घोषणा कर दी है. झमाडा के लगभग 700 कर्मचारी हड़ताल पर जाएंगे.

advt

इसे भी पढ़ेंःदर्द-ए-पारा शिक्षक: फॉरेस्ट डिपार्टमेंट की नौकरी छोड़ बने पारा शिक्षक, अब मानदेय के अभाव में बने कर्जदार

12 लाख की आबादी होगी प्रभावित

700 झमाडा कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से झरिया सहित कई इलाको में पानी की भारी किल्लत होगी. लगभग 12 लाख की आबादी इससे प्रभावित होगी.

इस भीषण गर्मी में झरिया, कतरास, तोपचांची सहित कई इलाको में पानी की किल्लत होगी. वहीं लोगों को होने वाली परेशानी पर झमाडा कर्मचारियों का कहना है कि इसके लिए जिला प्रशासन और राज्य सरकार की नीति जिम्मेवार है.

क्या है मांगें

बता दें कि झमाडा कर्मचारियों को करीब चार साल से वेतन नहीं मिला है. अपने 44 महीने के बकाये वेतन के लिए ये लोग सरकार और जिला प्रशासन से गुहार लगा चुके हैं. लेकिन हर बार इन झमाडा कर्मचारियों को जिला प्रशासन और राज्य सरकार द्वारा वेतन के बदले सिर्फ और सिर्फ आश्वासन ही मिला है.

झमाडा कर्मचारियों की मुख्य मांगों में छठ्ठा वेतन लागू करना, नियमित रूप से वेतन भुगतान, 44 महीने का एक साथ बकाया भुगतान सहित 9 सूत्री मांग शामिल है.

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों 22 दिसम्बर 2018 को झमाडा कर्मी की हड़ताल के दौरान नगर विकास सचिव से वार्ता हुई थी. उस दौरान बकाये वेतन भुगतान के साथ छठ्ठा वेतन मांग लागू करने की भी बात कही गयी थी. लेकिन ये महज आश्वासन ही साबित हुआ.

इसे भी पढ़ेंःगुमला में नक्सलियों का तांडवः पुलिस मुखबिरी के आरोप में व्यापारी की अगवा कर हत्या, ट्रक भी फूंका

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: