न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड के सदर अस्पताल हैं बदहाल, नहीं है किसी में सिटी स्कैन, एंडोस्कोपी सहित जरुरी जांच की मशीनें

68

Kumar  Gaurav

Ranchi : राज्य में डबल इंजन की सरकार चल रही है. सूबे के विकास को लेकर कई दावे किये जाते हैं. वहीं बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था देने की दावा भी आये दिन हो रहा है. लेकिन क्या सही मायने में राज्य के सरकारी अस्पतालों में बेहतर स्वास्थ्य सुविधायें मरीजों को दी जा रही हैं.

ये एक बड़ा सवाल है और अभी हालात ये हैं कि जांच मशीनें हैं तो डॉक्टर नहीं और अगर डॉक्टर हैं तो मशीनें नहीं हैं. कुछ ऐसा ही हाल सदर अस्पताल का भी है. राज्य के प्रत्येक जिला में सदर अस्पताल है. सदर अस्पताल को जिला का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण अस्पताल का दर्जा प्राप्त होता है.

लेकिन जिला के इस सबसे बड़े अस्पताल में मरीजों की गंभीर बीमारियों की जांच करने की क्षमता नहीं है. 24 जिलों में मौजूद एक भी सदर अस्पताल में सिटी स्कैन, एंडोस्कोपी, ईसीजी सहित कई जरुरी जांच की मशीनें उपलब्ध नहीं हैं.

hotlips top

ये स्थिति तब है, जब राज्य सरकार स्वास्थ्य के क्षेत्र में किसी भी तरह से समझौता करना नहीं चाहती. इसके अलावा किसी भी जिला के सदर अस्पताल में रेडियोलॉजिस्ट,  टेक्नीशियन सहित अन्य पारा मेडिकल स्टाफ की भी भारी कमी है.

इसे भी पढ़ें – मोटर वाहन विधेयक दोनों सदनों से  पारित , बिना ड्राइविंग लाइसेंस , शराब पीकर  या  रश ड्राइविंग पर भारी जुर्माना

30 may to 1 june

रिम्स में भी कई मशीनें हैं खराब

रिम्स में भी जांच में जरुरत पड़ने वाली कई तरह की मशीनें लगातार खराब रहती हैं. मरीजों को सीटी स्कैन, एंडोस्कोपी, एमआरआई जांच बाहर से ही कराना पड़ता है. जरुरी जांच के लिए मरीजों को बाहर से कराना पड़ते हैं और इसके लिए उन्हें अधिक रकम भी चुकाने पड़ते हैं. रिम्स में भी इन जांचों के लिए हेल्थ मैप एजेंसी मौजूद है. लेकिन डॉक्टर ज्यादातर बीमारियों में मरीजों को बाहर से जांच कराने की ही सलाह देते हैं.

रेडियोलॉजिस्ट ,टेक्नीशियन के आभाव में नहीं हो पा रहा ईसीजी मशीन का उपयोग

राज्य के विभिन्न जिलों के सदर और अनुमंडल स्तर तक के अस्पतालों में ईसीजी मशीने तो हैं, पर जांच करने के लिए रेडियोलॉजिस्ट और टेक्नीशियन का अभाव है. इनकी नियुक्ती के बारे में विभाग का कहना है कि जल्द ही इनके पदस्थापन की प्रक्रिया चालू कर दी जाएगी. वहीं सदर अस्पतालों में सिटी स्कैन और इंडोस्कोपी मशीन को समयबद्ध तरीके से लगाया जाएगा.

इसे भी पढ़ें –कांग्रेस : अजय कुमार और सुबोधकांत सहाय के समर्थक आपस में भिड़े, पुलिस को करना पड़ा लाठी चार्ज, दो गिरफ्तार (देखें वीडियो)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like